For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

रिपोर्ट :- आचार्य का बाण भट्ट काशी में

रिपोर्ट :- आचार्य का बाण भट्ट काशी में

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय का 'रंगमंडल' इन दिनों काशी में है | ०९ और १० फरवरी २०११ को एम.के.रैना के निर्देशन में "बाण भट्ट की आत्मकथा "का मंचन किया गया | नागरी नाटक मंडली के प्रेक्षागृह में आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी की इस कालजयी रचना को कलाकारों ने जीवंत कर दिया |प्रकाश और ध्वनि तथा संगीत संयोजन उत्कृष्ट रहा | बनारस में नाटक के सुधि दर्शक हैं यह उपस्थित भीड़ बता रही थी | सभागार में कई बार तालियों की गडगडाहट भी गूंज जाती |

११ और १२ को रंगमंडल विजय तेंदुलकर का नाटक 'जात ना पूछो साधु की 'का मंचन करेगा |इसका निर्देशन राजिंदर नाथ ने किया है |

नाटक देखने घर से कल शाम निकला तो एक जगह मुख्यमंत्री के दौरे के कारण सड़क प्रशासन द्वारा रोक दी गयी थी | जनता के बीच चर्चा सुनी की एक काशी के प्रधान मंत्री थे लाल बहादुर शास्त्री जिनकी सादगी की चर्चा के किस्से मशहूर हैं | प्रधान मंत्री बनने की बाद भी जिन्होंने एक कार नहीं खरीदी | जिनके रूस दौरे पर जाने के लिये एक कोट तक नहीं था | और जो प्रधान मंत्री बन दिल्ली जाने लगे तो पुराने कपडे वगैरह देकर अपनी धर्म पत्नी को सिल टाँक कर ठीक करने को कहा |... आज जनता से ही उसके चुने नेताओं को खतरा है ...|

Views: 246

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Abhinav Arun on February 13, 2011 at 12:44pm
"जाति ही पूछो साधु की " कल देखी रंगमंडल की प्रस्तुति | राजिंदर नाथ के निर्देशन में विजय तेंदुलकर का नाटक निखर कर सामने आया | महिपत थर्ड डिविजन एम् ए पास होकर किन खयालातों में डूबता उतराता है और नौकरी ढूँढने और करने के दौरान किन किन विसंगतियों से गुजरता है इसका व्यंग्यपूर्ण चित्रण हुआ है इसमें | एन एस डी की प्रस्तुति नाम के अनुरूप रही | कलाकारों का अभिनय सराहनीय रहा संगीत और प्रकाश संयोजन भी बढ़िया |बनारस के दर्शकों ने भी इन प्रस्तुतियों को सराहा |
Comment by Abhinav Arun on February 13, 2011 at 12:11pm
आभार अभय कान्त जी आप विचारों से मेरे साथ हैं ,बल मिला.. सही कहा हम तो कलम कार ठहरे |
Comment by Abhay Kant Jha Deepraaj on February 13, 2011 at 3:11am
Arun Kumar Jee,  Gandhi aur shaastri jaise neta ve the jo apne kartavyon ke bojh ko naitik jimmedaree samajhte the. Isliye samaaj ke beech ve us bhaav ke saath chalte the jaise ki parivaar kaa mukhiyaa apne ghar ke aangan mein ghoomataa hai. Yahaan mukhiyaa ko apne parivaar se koi bhay naheen honaa swbhaavik hai kintu aaj ke adhiktar netaa aise daaku hain jo yah jaante hain ki janataa unke har apraadh se parichit hai. Isliye unhen yah dar hai ki jis ghadi janataa ke naitik kartavyaa bodh kee bhavnaa jag jayegee, unkee durdashaa ho jayegee, Isee kaaran ve surakshaa ke ghere mein munh chipaaye phirte hai kintu unhen itihaas ke un pannon se seekh lenaa chaahiye jisme aise gheron ke tootne kee aik naheen balki anek kahaniyaan likhee huyee hai. Khair is ghatanaa ke liye jab tak hamaaraa samaaj aikjut naheen hai tab tak to shaayad yahee sambhav hai ki ham sab apnee - apnee kalam kee taan se us aiktaa ke liye samaaj ko jagaane kee koshish karte rahen. Abhay Deepraaj
Comment by Abhinav Arun on February 12, 2011 at 7:30am
आज " जात ही पूछो साधू की "देख सका तो कल विचार शेयर करूँगा |
Comment by Abhinav Arun on February 12, 2011 at 7:27am
रंगमंडल की ख्याति के अनुरूप रही प्रस्तुति | बाण भट्ट और निपुनिया की भूमिका कलाकारों ने बखूबी निभाई |संगीत और मंच सज्जा आकर्षक और समयानुकूल रही | प्रकाश में शायद इस प्रेक्षागृह की अपनी सीमाएं हैं | पर कुलमिलाकर वाह वाह !!!
Comment by Dr Nutan on February 11, 2011 at 4:26pm
सोच में डालने वाली बात .. और रंग मंचन कैसा रहा ... सादर

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post तरही गजल - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ओबीओ के तरही मिसरे पर दूसरी ग़ज़ल भी अच्छी हुई है,बधाई…"
2 hours ago
Samar kabeer commented on Er. Ganesh Jee "Bagi"'s blog post लघुकथा : भीड़ (गणेश जी बाग़ी)
"जनाब गणेश जी 'बाग़ी' साहिब आदाब,अच्छी लघुकथा लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
2 hours ago
Samar kabeer commented on vijay nikore's blog post प्यार का प्रपात
"प्रिय भाई विजय निकोर जी आदाब, बहुत उम्द: रचना हुई है, इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
2 hours ago
Samar kabeer commented on MUKESH SRIVASTAVA's blog post "मै" इक  समंदर में तब्दील हो जाता हूँ
"जनाब मुकेश श्रीवास्तव जी आदाब, अच्छी रचना हुई है, बधाई स्वीकार करें ।"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post तरही गजल - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई रविभसीन जी, सादर अभिवादन । गजल को समय देने और उत्साहवर्धन के लिए आभार।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post तरही गजल - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई तेजवीर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति और प्रशंसा के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post तरही गजल - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई दण्डपाणि जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व उत्साहवर्धन के लिए धन्यवाद । "
3 hours ago
R.k YADAV (अभ्युदय ) updated their profile
4 hours ago
rakesh sharma is now a member of Open Books Online
5 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' commented on रवि भसीन 'शाहिद''s blog post तू ही नहीं मैं भी तो हूँ (ग़ज़ल)
"आदरणीय समर कबीर साहब, आपकी इस्लाह और मार्गदर्शन के लिए तह-ए-दिल से आपका शुक्रिया अदा करता हूँ।"
6 hours ago
Samar kabeer commented on रवि भसीन 'शाहिद''s blog post तू ही नहीं मैं भी तो हूँ (ग़ज़ल)
"सबसे पहली बात ये ध्यान में रखें कि शाइर को अपने अशआर की तशरीह कभी नहीं करना चाहिए,क्योंकि पाठक अपने…"
7 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post तरही गजल - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आदरणीय लक्ष्मण भाई, इस सुन्दर ग़ज़ल की रचना पर आपकी ख़िदमत में अपनी दाद और मुबारक़बाद पेश करता हूँ।…"
7 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service