For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

आपके ओपन बुक्स ऑनलाइन की चर्चा अब अखबार में भी

आदरणीय साथियों,

 

आप सभी का ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के प्रति समर्पण और विश्वास अब मिडिया की नज़रों में भी आने लगा है, लखनऊ से प्रकाशित प्रसिद्ध हिंदी समाचार पत्र जन सन्देश टाइम्स ने ओ बी ओ के बारे में एक बड़ा सा Article छापा है | आप सभी को बधाई |


Views: 393

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by धर्मेन्द्र कुमार सिंह on October 4, 2011 at 6:56pm

बहुत बहुत बधाई ओबीओ परिवार को। ओबीओ की चर्चा अब अक्सर अखबारों इत्यादि में होती रहेगी इसलिए मुखपॄष्ठ पर ही एक लिंक बना दिया जाय जैसे "मीडिया में ओबीओ" और ये सारे लिंक उस लिंक के पन्ने पर दिखाए जाएँ। इससे इस तरह की खबरों को एक स्थान पर रखने और दुबारा देखने में सुविधा होगा। यह मेरा सुझाव है। जय ओबीओ

Comment by AVINASH S BAGDE on October 4, 2011 at 11:11am

BAGI JI..AAPKI LAGAN AUR MEHNAT NE OBO TATHA AAPKO IS MUKAM TAK PAHUCHAYA HAI.MAI BHI  CIVIL ENGR. HI HU...AAP SE YE PAHCHAN EK LAMBA SAFAR TAY KARE YAHI AASHA/VISHWAS HAI.

YAHA NAGPUR ME BHI HINDI K MATHADHISHO K VYAWHAR NE MUJHE KUCHH LIKHANE KO MAZBOOR KIYA.AAP NE PASAND KIYA..ACHCHHA LAGA.

Comment by आशीष यादव on September 22, 2011 at 11:52pm

ये सच में बड़ी उपलब्धि है, मुझे उम्मीद है की ये परिवार और आगे और बहुत आगे जायेगा| ये परिवार मजबूत कन्धों पर टिका है| इसके मुखिया श्री गणेश जी बागी जी ने सच में हिंदी साहित्य को एक नया मुकाम देने की कोशिश किया है इसके द्वारा| मुझे ख़ुशी है की मै इस परिवार का सदस्य हूँ|

Comment by Shanno Aggarwal on June 19, 2011 at 4:40am
गणेश, इस सफलता के लिये बहुत बधाई व शुभकामनायें. दुआ करती हूँ कि ये सफलता भविष्य में और भी ऊँचाइयों को छुये.

प्रधान संपादक
Comment by योगराज प्रभाकर on June 4, 2011 at 12:09pm
बागी भाई, यह सब आपकी मेहनत और सभी साथियों के अनथक प्रयासों से संभव हुआ है ! मेरी दुआ है कि आज जिसका ज़िक्र अख़बारों में है कल उसका ज़िक्र चाँद सितारों में भी हो !
Comment by Er. Ambarish Srivastava on June 2, 2011 at 11:35pm
इस उपलब्धि हेतु आदरणीय बागी जी व योगी जी सहित ओ बी ओ के सभी सदस्यों व संचालकों को बहुत बहुत बधाई ........:))
Comment by chain singh shekhawat on June 1, 2011 at 6:14pm
bahut khoob...
sanchalakon aur sabhi sadasyon ko badhai..
Comment by Abhinav Arun on June 1, 2011 at 1:06pm
bahut khoob abhi to ye shuruaat hai dekhte jaaayiye kaarvaan door tak jaayega !! shubhkaamnayen pooree o.bee.o. team ko !!
Comment by Hilal Badayuni on June 1, 2011 at 12:46pm
badi khushi ki baat hai isi tarah hum taraqqi kerenge
Comment by Tapan Dubey on June 1, 2011 at 12:45pm
नज़र नज़र मे उतरना कमाल होता है.
नफस नफ़स मे बिखरना कमाल होता है.
बुलंदियो पर पहुचना कोई कमाल नही,
बुलंदियो पे ठाहरना कमाल होता है.
शायर- "Unknown"

OBO परिवार ना सिर्फ़ बुलंदी पर पहुचा है बल्कि काफ़ी वक्त से उस बुलंदी पे अपना परचम लहराए हुए है. बधाई

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"आदरणीय अबोध बालक जी, हौसला बढ़ाने के लिए आभार। "
12 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"भाई लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' नमस्कार। भाई बहुत बहुत धन्यवाद। "
12 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"आदरणीय गुरप्रीत सिंह 'जम्मू' जी आभारी हूँ। आपने सही कहा ,सर् का मार्गदर्शन मिलना हमारी…"
12 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"आदरणीय समर कबीर सर् नमस्कार। बहुत खूबसूरत आपने मतला बना दिया। सच बताऊं सर् मैंने जो सानी बदलने के…"
12 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"धन्यवाद लक्ष्मण धामी मुसाफ़िर जी, मेरी तरफ़ से भी आपको और सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक…"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"ओबीओ परिवार के समस्त सदस्यों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ..."
yesterday
DR ARUN KUMAR SHASTRI commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"गजल में आपकी सादगी का गुमां मुझको हुआ है //लम्हा लम्हा हरफ ब हरफ बानगी से जुडा हुआ है…"
Monday
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"बहुत शुक्रिय: प्रिय ।"
Monday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"रूह के पार मुझको बुलाती रही' क्या कहने.. आ. भाई समर जी।"
Monday
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"भाई गुरप्रीत सिंह जी आदाब, बहुत अर्से बाद ओबीओ पर आपको देख कर ख़ुशी हुई ।"
Monday
Gurpreet Singh jammu commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"/रूह*हर दर्द अपना भुलाती रही// यूँ कहें तो:- 'रूह के पार मुझको बुलाती रही वाह वाह आदरणीय समर…"
Monday
Gurpreet Singh jammu commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"आदरणीया रचना भाटिया जी नमस्कार। बहुत ही बढ़िया ग़ज़ल का प्रयास आपकी तरफ से । पहले दोंनों अशआर बहुत…"
Monday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service