For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ज़िन्दगी खुद में ही तो एक जंग का एलान है.

ज़िन्दों और परिंदों का बस एक ही पहचान है.
ना ही थकना, ना ही रुकना बस और बस उड़ान है.
एक जगह जो रुक गया तो रुक गया उसका सफ़र.
इसलिए ही अब तो मंजिल रोज़ एक मुकाम है.
कौन कहता है जहां में ज़िंदा रहना है कठिन.
आदमी में है ही क्या एक जिस्म और एक जान है.
मौसमे बारिश गिरा देता है कितने आशियाँ .
हिम्मते मरदा है जो कि हर तरफ मकान है.
ज़िन्दगी में जंग ना तो क्या मज़ा मापतपुरी.
ज़िन्दगी खुद में ही तो एक जंग का एलान है.
          ----- सतीश मापतपुरी

Views: 235

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by JAWAHAR LAL SINGH on May 8, 2012 at 4:56am

ज़िन्दगी में जंग ना तो क्या मज़ा मापतपुरी.
ज़िन्दगी खुद में ही तो एक जंग का एलान है.

बहुत सार्थक और सकारात्मक उपदेश देती रचना ! आदरणीय सतीश जी, आपको बधाई!

Comment by कुमार गौरव अजीतेन्दु on May 5, 2012 at 8:52am

आदरणीय सतीश जी सादर प्रणाम

जिंदगी की सही परिभाषा दी आपने, जिंदगी एक जंग ही तो है.
Comment by MAHIMA SHREE on April 25, 2012 at 3:15pm
ज़िन्दों और परिंदों का बस एक ही पहचान है.
ना ही थकना, ना ही रुकना बस और बस उड़ान है. ...
आदरणीय सतीश सर ,नमस्कार
वाह...... सर जीवन में होसले भरती रचना के लिए बधाई स्वीकार करे
Comment by PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA on April 24, 2012 at 12:40pm

ज़िन्दगी में जंग ना तो क्या मज़ा मापतपुरी. 
ज़िन्दगी खुद में ही तो एक जंग का एलान है.

आदरणीय सतीश जी, सादर अभिवादन, 
प्रेणादायक सुन्दर भाव युक्त रचना. संगर्ष, जंग, जिंदगी वाह जी वाह.  बधाई.


Comment by राकेश त्रिपाठी 'बस्तीवी' on April 24, 2012 at 6:58am

aadarneey Satish ji Sadar namaskar, Motiyon ki ladi me ye do heere lage:

कौन कहता है जहां में ज़िंदा रहना है कठिन.
आदमी में है ही क्या एक जिस्म और एक जान है.................Ekla chalo re, Ekatmvaad :)
मौसमे बारिश गिरा देता है कितने आशियाँ .
हिम्मते मरदा है जो कि हर तरफ मकान है..............This is the Best; Bhuj Gujraatiyon ki yaad aati hai, jahan Bahut jyada paani na hone par bhi ekdam aage hain.

Bahut bahut badhai.

Comment by संदीप द्विवेदी 'वाहिद काशीवासी' on April 24, 2012 at 2:45am

मौसमे बारिश गिरा देता है कितने आशियाँ .
हिम्मते मरदा है जो कि हर तरफ मकान है
इस बात का कोई जवाब नहीं है गुरुवर...!! बहुत ख़ूब...

Comment by satish mapatpuri on April 24, 2012 at 12:40am

राजेश कुमारी जी , अविनाश जी और मृदु जी आपका दिल से आभार

Comment by CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' on April 23, 2012 at 10:46pm

ज़िन्दगी खुद में ही तो एक जंग का एलान है.

हार्दिक बधाई खूबसूरत भावाभियक्ति पर

Comment by AVINASH S BAGDE on April 23, 2012 at 11:23am

मौसमे बारिश गिरा देता है कितने आशियाँ .
हिम्मते मरदा है जो कि हर तरफ मकान है....realy आशा का संचार करती, आत्मशक्ति आत्मविश्वास को जगाती रचना...


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by rajesh kumari on April 23, 2012 at 9:51am

आशा का संचार करती आत्मशक्ति आत्मविश्वास को जगाती रचना बहुत खूब सतीश मापतपुरी जी ..बधाई 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post "मुहब्बत की नहीं मुझसे " , प्रिये ! तुम झूठ मत बोलो |  (५३ )
"बहुत बहुत आभार Amit Kumar "Amit"  जी उत्साहवर्धन के लिए "
2 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post ग़म को क़रीब से कभी देखा है इसलिए(५१)
"बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय  Samar kabeer साहेब |  सलामत रहें | "
2 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव posted photos
2 hours ago
Sushil Sarna posted a photo
2 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव posted an event

ओबीओ, लखनऊ चैप्टर at 37, रोहतास एन्क्लेव,

July 28, 2019 from 4pm to 7pm
ओबीओ, लखनऊ चैप्टर की मासिक गोष्ठी माह जूलाई  2019 See More
2 hours ago
DR. HIRDESH CHAUDHARY posted a blog post

बृज क्षेत्र का सावन और उसका सौंदर्य

मदमस्त चलती हवाएं और कार में एफएम पर मल्हार सुनकर, पास बैठी मेरी सखी साथ में गाना गाने लगती है…See More
2 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted a blog post

बीच समंदर कश्ती छोड़े धोका गर मल्लाह करे (५४)

बीच समंदर कश्ती छोड़े धोका गर मल्लाह करे मंज़िल कैसे ढूंढोगे जब रहबर ही गुमराह करे **आज हुआ है…See More
2 hours ago
Amit Kumar "Amit" commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post "मुहब्बत की नहीं मुझसे " , प्रिये ! तुम झूठ मत बोलो |  (५३ )
"आदरणीय गिरधारी सिंह गहलोत तुरंत बीकानेरी जी एक खूबसूरत गीत कहने के लिए बहुत-बहुत बधाईयां।"
4 hours ago
Samar kabeer commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post ग़म को क़रीब से कभी देखा है इसलिए(५१)
"मतला यूँ कर सकते हैं:- 'ग़म को क़रीब से मियाँ देखा है इसलिए अपना ही दर्द ग़ैर का लगता है…"
6 hours ago
कृष्णगोपाल बघेल is now a member of Open Books Online
11 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव posted a discussion

ओबीओ लखनऊ चैप्टर की साहित्य संध्या माह जून 2019 – एक प्रतिवेदन डॉ. गोपाल नारायन श्रीवास्तव

चढा असाढ, गगन घन गाजा । साजा बिरह दुंद दल बाजा ॥ धूम, साम, धीरे घन धाए । सेत धजा बग-पाँति देखाए ॥…See More
11 hours ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post ओ.बी.ओ.की 9 वी सालगिरह का तुहफ़ा
"जनाब गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत' जी आदाब,ग़ज़ल की सराहना के लिए आपका धन्यवाद,आपको भी ओबीओ की…"
13 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service