For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

दोहे--नव वर्षाभिनंदन

ख़ुशियों से हो ये भरा,नया हमारा साल ।
मेल जोल सबसे बढ़े, बदले सबकी चाल ।।

घर आँगन में हो ख़ुशी,चले हास-परिहास ।
पीड़ाओं की आँधियाँ, फटकें कभी न पास ।।

साल नया ख़ुश हाल हो,सब हों माला माल ।
जीवन में दुख का कभी,आये नहीं सवाल ।।

नये साल में हम करें,कोई अच्छा काम ।
युग -युग तक जपते रहें,लोग हमारा नाम ।।

माँगूँ रब से ये दुआ,रहें सभी आबाद ।
बीते दिन कोई यहाँ, करे न'आरिफ़' याद ।।

मौलिक एवं अप्रकाशित ।।

Views: 212

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Mohammed Arif on January 4, 2018 at 8:50am

बहुत-बहुत आभार आदरणीय लक्ष्मण धामी जी । लेखन सार्थक हो गया ।

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on January 4, 2018 at 8:18am

आ. भाई आरिफ जी, नववर्ष पर बेहतरीन भावपूर्ण दोहे हुए हैं । हार्दिक बधाई।

Comment by Mohammed Arif on January 3, 2018 at 11:21pm

बहुत-बहुत आभार आदरणीय बृजेश कुमार जी ।

Comment by बृजेश कुमार 'ब्रज' on January 3, 2018 at 10:45pm

उत्तम दोहे प्रस्तुति आदरणीय..सादर

Comment by Mohammed Arif on January 2, 2018 at 11:03pm

बहुत-बहुत शुक्रिया जनाब सलीम रज़ा साहब । यह सब आपकी दुआआओं का नतीजा है ।

Comment by SALIM RAZA REWA on January 2, 2018 at 9:13pm
वाह आरिफ साहिब वाह... क्या खूब दोहे हुए हैं...मुबारकबाद. आप तो हर विधा के क़लमकार हैं ..
Comment by Mohammed Arif on January 2, 2018 at 8:20pm

बहुत-बहुत शुक्रिया आली जनाब मोहतरम समर कबीर साहब ।आपकी टिप्पणी से लेखन सार्थक हो गया ।

Comment by Samar kabeer on January 2, 2018 at 5:42pm

जनाब मोहम्मद आरिफ़ साहिब आदाब,नव वर्ष के स्वागत में बहुत उम्दा दोहे लिखे आपने,इस प्रस्तुति पर दिल से बधाई स्वीकार करें ।

Comment by Mohammed Arif on January 2, 2018 at 2:02pm

बहुत-बहुत शुक्रिया जनाब अफरोज़ सहर साहब ।नया साल मुबारक हो ।

Comment by Mohammed Arif on January 2, 2018 at 2:01pm

बहुत-बहुत आभार आदरणीय पंकज कुमार मिश्रा जी । नववर्ष मंगलमय हो ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ६७
"आ. भाई राज नवादवी जी, सादर अभिवादन। सुंदर गजल हुयी है । हार्दिक बधाई ।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on दिनेश कुमार's blog post ग़ज़ल -- नेकियाँ तो आपकी सारी भुला दी जाएँगी / दिनेश कुमार
"आ. भाई दिनेश जी, सुंदर गजल हुयी है । हार्दिक बधाई ।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post जलूँ  कैसे  तुम्हारे बिन - लक्ष्मण धामी"मुसाफिर" ( गजल )
"आ. भाई बृजेश जी, सादर आभार।"
3 hours ago
क़मर जौनपुरी commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ६८
"बहुत बहुत शुक्रिया मोहतरम समर कबीर साहब।"
3 hours ago
Samar kabeer commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ६८
""  जब भी होता है मेरे क़ुर्ब में तू दीवाना मेरी नस नस में भी दौड़े है लहू दीवाना" सानी…"
3 hours ago
Samar kabeer commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ६८
"जनाब क़मर जौनपुरी साहिब आदाब,ओबीओ मंच पर आपका स्वागत है । "बू" शब्द हिन्दी और उर्दू में…"
4 hours ago
Profile IconDR ARUN KUMAR SHASTRI and क़मर जौनपुरी joined Open Books Online
7 hours ago
DR ARUN KUMAR SHASTRI shared Admin's group on Facebook
9 hours ago
DR ARUN KUMAR SHASTRI shared Admin's group on Facebook
9 hours ago
क़मर जौनपुरी posted a blog post

गज़ल

2122  1122  1122   22ग़ज़ल ***** तेरे दिल को मैं निगाहों में बसा लेता हूँ। तेरा ख़त जब मैं कलेजे से…See More
12 hours ago
santosh khirwadkar posted a blog post

मिट गए नक़्श सभी....संतोष

फ़ाइलातुन फ़इलातुन फ़इलातुन फ़ेलुन/फ़इलुनमिट गये नक़्श सभी दिल के दिखाऊँ कैसेएक भुला हुआ क़िस्सा…See More
12 hours ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" posted a blog post

होश की मैं पैमाइश हूँ:........ग़ज़ल, पंकज मिश्र..........इस्लाह की विनती के साथ

22 22 22 2मयख़ानों की ख़ाहिश हूँ होश की मैं पैमाइश हूँचाँद न कर मुझ पर काविश ब्लैक होल की नाज़िश हूँहल…See More
12 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service