For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

221 2121 1221 212
बेबस पे और जुल्म न ढाने की बात कर।
गर हो सके तो होश में आने की बात कर ।।

.

क्या ढूढ़ता है अब तलक उजड़े दयार में ।
बेघर हुए हैं लोग बसाने की बात कर ।।

.

खुदगर्ज हो गया है यहां आदमी बहुत ।
दिल से कभी तो हाथ मिलाने की बात कर ।।

.

मुश्किल से दिल मिले हैं बड़ी मिन्नतों के बाद ।
जब हो गया है प्यार निभाने की बात कर ।।

.

यूँ ही बहक गये थे कदम बे इरादतन ।
इल्जाम मेरे सर से हटाने की बात कर ।।

.

मैंने भी आज देख ली दरिया दिली तेरी ।
अब तो न और पीने पिलाने की बात कर ।।

.

मुद्दत से हँस रहा मेरी मजबूरियों पे तू ।
हैं गम भी बेसुमार बटाने की बात कर ।।

.

गिरता रहे क्यों बारहा नजरों से कोई शख्स ।
शिकवे शिकायतों को मिटाने की बात कर ।।

क्यूँ  रट लगाये  बैठा  है बस  एक बात पर ।
कुछ तो कभी कभार ज़माने की बात कर ।।

        ---नवीन मणि त्रिपाठी
          मौलिक अप्रकाशित

Views: 62

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Naveen Mani Tripathi on May 1, 2018 at 10:19am

आ0 नीलेश जी सादर आभार

Comment by Naveen Mani Tripathi on May 1, 2018 at 10:18am

आ0 कबीर सर सादर नमन 

अत्यंत व्यस्तता की वजह से हाजिर नहीं हो पाया था इसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ   । 

       शीघ्र ही सक्रियता को कायम करूँगा ।

सादर नमन ।

Comment by Samar kabeer on April 29, 2018 at 8:11pm

जनाब नवीन मणि त्रिपाठी जी आदाब,ग्गज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें ।

मंच पर आपकी सक्रियता ग़ज़ल पोस्ट करने की हद तक है, तरही मुशायरे में भी आप ग़ज़ल दाग़ कर निकल गए,पलट कर भी नहीं देखा,ये तरीक़ा ठीक नहीं है ।

पांचवें शैर के ऊला में 'बे इरादतन' शब्द मुनासिब नहीं,इसे बदलने का प्रयास करें ।

सातवें शैर में 'बेसुमार' को "बेशुमार" कर लें,और 'बटाने' क़ाफ़िया भी ठीक नहीं ।

आख़री शैर पर निलेश जी बता चुके हैं ।

Comment by बृजेश कुमार 'ब्रज' on April 29, 2018 at 7:48pm

वाह आदरणीय त्रिपाठी जी अच्छी ग़ज़ल कही..सादर

Comment by Nilesh Shevgaonkar on April 29, 2018 at 9:19am

आ. नवीन जी,
अच्छी ग़ज़ल हुई है...
अंतिम शेर में   पर और कर आने से तकाबुले रदीफ़ की सूरत बन रही है,,
देखिएगा 
सादर 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post क्या मन है बीमार पड़ौसी - गजल - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आ. भाई विजय निकोर जी, सादर अभिवादन । स्नेहाशीष के लिए आभार।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post क्या मन है बीमार पड़ौसी - गजल - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आ. भाई विजय निकोर जी, सादर अभिवादन । स्नेहाशीष के लिए आभार।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post जीवन में लड़ाते हैं क्यों यार गड़े मुर्दे - गजल
"आ. भाई गरप्रीत जी, सादर अभिवादन । उत्साहवर्धन के लिए धन्यवाद।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post जीवन में लड़ाते हैं क्यों यार गड़े मुर्दे - गजल
"आ. भाई तेजवीर जी, सादर अभिवादन । प्रशंसा के लिए आभार ।"
3 hours ago
Samar kabeer commented on VIRENDER VEER MEHTA's blog post वापसी.... लघुकथा
"जनाब वीरेन्द्र वीर मेहता जी आदाब,बहुत उम्दा लघुकथा हुई है,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post जीवन में लड़ाते हैं क्यों यार गड़े मुर्दे - गजल
"आ. भाई गंगाधर जी, सादर अभिवादन ।गजल की प्रशंसा से मान बढ़ाने के लिए धन्यवाद।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post जीवन में लड़ाते हैं क्यों यार गड़े मुर्दे - गजल
"आ. भाई समर जी, पुनः उपस्थिति के लिए आभार।"
3 hours ago
Samar kabeer commented on TEJ VEER SINGH's blog post दुर्गा - लघुकथा –
"जनाब तेजवीर सिंह जी आदाब,अच्छी लघुकथा लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
3 hours ago
Samar kabeer commented on rajesh kumari's blog post नाभी में लेकर कस्तूरी  तय करता मृग कितनी दूरी (गीत राज )
"बहना राजेश कुमारी जी आदाब,बहुत सुंदर गीत लिखा आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें । मुझे ऐसा लग…"
3 hours ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post कुछ क्षणिकाएं :
"जनाब सुशील सरना जी आदाब,बहुत उम्दा क्षणिकाएँ हुई हैं,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें । झीलें नहीं…"
4 hours ago
Samar kabeer commented on Harihar Jha's blog post अच्छे दिन थे
"जनाब हरिहर झा साहिब आदाब,ये रचना आपने दोबारा पोस्ट कर दी है,देखियेगा ।"
4 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on VIRENDER VEER MEHTA's blog post वापसी.... लघुकथा
"आ. वीरेंद्र मेहता जी, अच्छी कथा हुयी है । हार्दिक बधाई ।"
4 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service