For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Meena Pathak's Comments

Comment Wall (23 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 12:09am on May 27, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…
ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार की ओर से आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें....
At 9:12pm on September 18, 2014, सूबे सिंह सुजान said…

बहुत सुन्दर

At 9:12pm on September 18, 2014, सूबे सिंह सुजान said…

आपको नमस्कार   ....

At 10:56am on July 2, 2014, वेदिका said…
गत मास के सक्रिय सदस्य चुने जाने पर आपको हार्दिक बधाई आदरणीय मीना दी!
At 8:52pm on June 15, 2014, mrs manjari pandey said…
आदरणीया मीना पाठक जी धन्यवाद हौसला अफज़ाई के लिए
At 1:55pm on June 12, 2014, Dr Ashutosh Mishra said…

आदरणीया मीना जी ..इस महीने की सक्रीय सदस्य चुने जाने पर आपको मेरी तरफ से हार्दिक बधाई सादर 

At 3:10pm on June 11, 2014, Sushil Sarna said…

आदरणीया श्रीमती मीना पाठक जी  माह के सक्रिय सदस्य की रूप में आपके सम्मानित होने की हार्दिक बधाई। 

At 10:09pm on June 10, 2014,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

आदरणीया श्रीमती मीना पाठक जी,

सादर अभिवादन,
यह बताते हुए मुझे बहुत ख़ुशी हो रही है कि ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार में आपकी सक्रियता को देखते हुए OBO प्रबंधन ने आपको "महीने का सक्रिय सदस्य" (Active Member of the Month) घोषित किया है, बधाई स्वीकार करें | प्रशस्ति पत्र उपलब्ध कराने हेतु कृपया अपना पता एडमिन ओ बी ओ को उनके इ मेल admin@openbooksonline.com पर उपलब्ध करा दें | ध्यान रहे मेल उसी आई डी से भेजे जिससे ओ बी ओ सदस्यता प्राप्त की गई है |
हम सभी उम्मीद करते है कि आपका सहयोग इसी तरह से पूरे OBO परिवार को सदैव मिलता रहेगा |
सादर ।

आपका
गणेश जी "बागी"
संस्थापक सह मुख्य प्रबंधक
ओपन बुक्स ऑनलाइन

At 12:39pm on May 14, 2014, कंवर करतार said…

बहुत प्रेरणादायक रचना है आपकी ,कोटि कोटि बधाई 

At 6:55pm on December 17, 2013, NEERAJ KHARE said…
MEENA JI BAHUT BAHUT DHANYAWAD
At 9:57pm on November 13, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

मीना जी

अन्वेषण  कविता पर हौसला अफजाई  के लिए आपका आभार

ससम्मान

At 9:01pm on October 13, 2013, Deepak Sinha said…
Adarniya Meena Ji

Aapka sadar aabhar. Main koi lekhak ya kavi nahi hun. Kintu phir bhi Maine ye group join kiya hai kyonki mujhe apni matribhasha me likhe gae aalekh va kahaniyan bahut pasand hain.

Kintu vidambana dekhie k mujhe hindi me typing karni bhi nahi aati. Aasha karta hun k mujhe meri kami k bawajood bhi is group me swikaar kiya jaega.
At 8:37pm on September 5, 2013, mrs manjari pandey said…

        

      आदरणीया मीना पाठक जी बहुत बहुत धन्यवाद जी .

At 12:28pm on September 4, 2013, Manoj Bohara said…

Thanks Alot

At 1:23am on August 15, 2013, vinay tiwari said…

आप सभी को स्वतन्त्रता दिवस की शुभकामना ||||
लिखने का काफी मन था पर मै लिखा नहीं पाया समया अभाव
के कारण आज मुझे आपने २५ साल पीछे जाने का मन कर रहा है |
जन्हा मुझे इंतज़ार रहता था 15 आगस्त का पर आज वो बता नहीं रही बचपन मे खो जाने का मन करता है

At 10:55pm on August 13, 2013, vinay tiwari said…

dhanyabad aapka 

At 5:08pm on August 5, 2013, Vasundhara pandey said…

धन्यवाद दी..:)

At 9:31pm on June 17, 2013, D P Mathur said…

आदरणीया मीना जी आपका आभार । 

At 9:42pm on March 26, 2013, coontee mukerji said…

मीना जी जहाँ गुणग्राही चिज़ हो वहाँ मन ठहर ही जाता है. आपको होली की बहूत सारी शुभा कामनाएँ .

At 1:35am on March 23, 2013, coontee mukerji said…

meena ji , tumse milne ki..... namak kavita ek kubsurat si ehsaas mane mei jaga gai.purvi malaye.....ek bhulee bisri yadein jane kahan se mane mein jhankne lagi.hoton par ek muskurahat kheel ayee.bahut  bahut badhai.

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Usha Awasthi posted a blog post

सब एक

सब एक उषा अवस्थी सत्य में स्थित कौन किसे हाराएगा? कौन किससे हारेगा? जो तुम, वह हम सब एक ज्ञानी वही…See More
11 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post एक अनबुझ प्यास लेकर जी रहे हैं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"शंका निवारण करने के लिए धन्यवाद आदरणीय धामी भाई जी।"
18 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post एक अनबुझ प्यास लेकर जी रहे हैं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आ. भाई अमीरुद्दीन जी, निम्न पंक्तियों को गूगल करें शंका समाधान हो जायेगा।//अपने सीपी-से अन्तर में…"
21 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (जबसे तुमने मिलना-जुलना छोड़ दिया)
"आदरणीय लक्ष्मण धामी भाई मुसाफ़िर जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिति और उत्साहवर्धन हेतु हार्दिक…"
22 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (जबसे तुमने मिलना-जुलना छोड़ दिया)
"आ. भाई अमीरुद्दीन जी, सादर अभिवादन। अच्छी समसामयिक गजल हुई है । हार्दिक बधाई।"
22 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Chetan Prakash's blog post गज़ल
"आ. भाई चेतन जी, सादर अभिवादन। अच्छी गजल हुई है। हार्दिक बधाई।"
23 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कभी तो पढ़ेगा वो संसार घर हैं - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आ. भाई इन्द्रविद्यावाचस्पति जी, सादर अभिवादन। गजल पर उपस्थिति और सराहना के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
23 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted blog posts
23 hours ago
indravidyavachaspatitiwari commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कभी तो पढ़ेगा वो संसार घर हैं - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"जमाने को अच्छा अगर कर न पाये, ग़ज़ल के लिए धन्यवाद।करता कहना।काश सभी ऐसा सोचते?"
yesterday
AMAN SINHA posted a blog post

किराए का मकान

दीवारें हैं छत हैंसंगमरमर का फर्श भीफिर भी ये मकान अपना घर नहीं लगताचुकाता हूँमैं इसका दाम, हर…See More
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post एक अनबुझ प्यास लेकर जी रहे हैं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"//अनबुझ का अर्थ यहाँ कभी न बुझने वाली के सन्दर्भ में ही लिया गया है। हिन्दी में इसका प्रयोग ऐसे भी…"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post केवल बहाना खोज के जलती हैं बस्तियाँ - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आ. भाई अमीरुद्दीन जी, सादर अभिवादन। गजल पर उपस्थिति, स्नेह व सुझाव के लिए आभार। "
yesterday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service