For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सम्माननीय साथियो,

ओबीओ की लोकप्रियता के साथ ही यहाँ प्रकाशन हेतु प्राप्त होने वाली रचनायों की सँख्या भी बहुत तेज़ी से बढ़ रही है. ओबीओ पर यूँ तो प्रकाशन सम्बन्धी एक नियमावली पहले से ही मौजूद है, लेकिन रचनाकारों से अनुरोध है कि:

१. अपनी रचनाएँ एवं टिप्पणियाँ केवल देवनागरी लिपि में ही पोस्ट करें. 
२. रचना १० फॉण्ट साइज़ में ही टाईप करके पोस्ट करें.
३. एक से ज्यादा रंग में टाईप रचना पोस्ट मत करें.  
४. रचना केवल लेफ्ट एलाइन रूप में ही पोस्ट करें. 
५. अनावश्यक रूप में टेक्स्ट "बोल्ड" या "इटेलिक" न करें.  
६. बिना शीर्षक वाली रचना पोस्ट न करें.
७. रचना पोस्ट करने से पहले भाषा एवं व्याकरण सम्बन्धी त्रुटियाँ सुधार लें.
८. रचनाएँ अनुमोदित होने में २४ घंटे तक का समय लग सकता है, अत: समय से पूर्व पत्र-व्यवहार न करें. 
९. २४ घंटे के बाद भी यदि आपकी रचना अनुमोदित नहीं होती तो समझ लें कि आपकी रचना स्वीकृत नहीं की गई है. अत रचना की एक प्रति अपने पास सुरक्षित रखें, क्योंकि हर अस्वीकृत रचना सम्बन्धी सूचना देना कई बार संभव नहीं होता.   
१०. कृपया अपनी तस्वीर/तस्वीरें रचना के साथ मत लगाएँ, उन्हें केवल फोटो सेक्शन में ही पोस्ट करें.



सादर
योगराज प्रभाकर

Views: 747

Reply to This

Replies to This Discussion

We welcome the informative rules framed by the Adm. Due to increasing popularity some restrictions had to be framed

 One must take care of space of the site and time of the reader also - Laxman Prasad Ladiwala 

आदरणीय प्रधान संपादक महोदय जी, 

सादर अभिवादन .

दिशा निर्देश हेतु आभार. शत प्रतिशत अनुपालन होगा. 

आदरणीय प्रधान संपादक  जी, 

                                   अभिवादन, अवश्य  ही नियमो का पालन होना चाहिए, मै भी इसके पालन के लिए सतत प्रयत्नशील रहूँगा.

आदरणीय   संपादक महोदय आपके निर्देश का सयत्न \ भरसक अनुपालन  करूँगा | कुछेक त्रुटियाँ कंप्यूटर और इन्टरनेट के १००% साथ न देने के कारण भी होती हैं | ये न हों यह भी प्रयास रहेगा | सादर - अभिनव

आदरणीय प्रधान संपादक जी, ओ बी ओ के हित में बहुत ही सही दिशानिर्देश दिए हैं आपने ! हम सभी को इन नियमों का पालन अवश्य ही करना चाहिए ! सादर

आदरणीय प्रधान संपादक महोदय
आपके द्वारा जारी दिशा-निर्देश निश्चित रुप से इस मंच के लेखकोँ की बेहतरी के लिए होँगे अतः इनका स्वागत है। मुझे इस मंच का शांत माहौल बहुत भाता है। यहाँ कुछ अन्य साइट्स की तरह किच-किच नहीँ होती। आशा है ये माहौल आगे भी बना रहेगा। धन्यवाद।

सादर अभिवादन. अनुपालन होना ही चाहिये.

अवगत कराने के लिए धन्यवाद ! नियमों का ध्यानपूर्वक पालन किया जाएगा ! सादर !

आदेश शिरोधार्य.

आदरणीय

आपका अनुरोध सर आँखों पर -भविष्य में ध्यान रखूँगा

सर्वश्री लक्ष्मण प्रसाद लडीवाला जी, प्रदीप सिंह कुशवाहा जी, अशोक कुमार रकतले  जी, अरुण कुमार पाण्डेय अभिनव जी, अम्बरीष श्रीवास्तव जी, कुमार गौरव अजीतेंदु जी, अरुण कुमार निगम जी, अरुण श्रीवास्तव जी, आचार्य संजीव सलिल जी एवं उमाशंकर मिश्र जी, मेरी बात को मान देने के लिए आप सभी का हार्दिक धन्यवाद.

आदरणीय प्रभाकर जी ,आपके द्वारा ज़ारी किये गए दिशा निर्देश का स्वागत है उसका अवश्य पालन होना चाहिए ,आभार 

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Samar kabeer commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post दौड़ पड़ा याद का तौसन कोई----ग़ज़ल
"अज़ीज़म पंकज कुमार मिश्रा आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें । 'फिर खुला याद के…"
5 hours ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" posted a blog post

दौड़ पड़ा याद का तौसन कोई----ग़ज़ल

2122 1122 1122 22फिर खुला याद के कमरे का ज्यूँ रौज़न कोईत्यों ही फिर दौड़ पड़ा याद का तौसन कोईशेर में…See More
yesterday
Alok Rawat replied to डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव's discussion साहित्य-संध्या ओबीओ लखनऊ-चैप्टर माह दिसंबर 2020–एक प्रतिवेदन   ::   डॉ. गोपाल नारायन श्रीवास्तव
"आदरणीय गोपाल दादा, आपका हर प्रतिवेदन अपने आप में अद्वितीय होता है | वास्तव में हर कवि की रचना को…"
Wednesday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post औरों से क्या आस रे जोगी-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'(गजल)
"आ. भाई सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व उत्साहवर्धन के लिए आभार। आ. समर जी की बात…"
Wednesday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post सब कुछ है अब यार सियासी- लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"आ. भाई सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति, उत्साहवर्धन व सुझाव के लिए आभार ।"
Wednesday
Samar kabeer left a comment for Aazi Tamaam
"जनाब आज़ी साहिब,तरही मुशाइर: में शामिल सभी ग़ज़लों पर लाइव ही तफ़सील से गुफ़्तगू होती है, शिर्कत फ़रमाएँ,…"
Tuesday
Samar kabeer and Aazi Tamaam are now friends
Tuesday
Samar kabeer replied to Admin's discussion "OBO लाइव तरही मुशायरे"/"OBO लाइव महा उत्सव"/"चित्र से काव्य तक" प्रतियोगिता के सम्बन्ध मे पूछताछ
"जनाब आज़ी साहिब आदाब, ओबीओ पर आपका स्वागत है, ओबीओ के तरही मुशाइर: में शिर्कत फ़रमाएँ, वहाँ सभी ग़ज़लों…"
Tuesday
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "OBO लाइव तरही मुशायरे"/"OBO लाइव महा उत्सव"/"चित्र से काव्य तक" प्रतियोगिता के सम्बन्ध मे पूछताछ
"आज ही obo join किया है कृपया मदद करें कैसे तरही ग़ज़ल की सार्थकता की जांच हो"
Tuesday
सालिक गणवीर commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post औरों से क्या आस रे जोगी-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'(गजल)
"आदरणीय भाई लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी आदाब बहुत बढ़िया ग़ज़ल कही है आपने ,बधाई स्वीकार करें।…"
Tuesday
सालिक गणवीर commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post सब कुछ है अब यार सियासी- लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"आदरणीय भाई लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'  जी आदाब बहुत बढ़िया ग़ज़ल कही है आपने ,बधाई…"
Tuesday
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post होता नहीं है ख़त्म मेरा काम भी कभी......( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदरणीय समर कबीर साहिब आदाब ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिति और सराहना के लिए हार्दिक आभार.जैसा कि मैंने चेतन…"
Tuesday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service