For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Chaatak
  • Male
  • Gonda, Uttar Pradesh
  • India
Share

Chaatak's Friends

  • Preeti
  • ASHISH KUMAR DUBEY
  • SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR
  • पियूष कुमार पंत
  • Harish Bhatt
  • Dr. Shashibhushan
  • मनोज कुमार सिंह 'मयंक'
  • अश्विनी कुमार
  • PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA
  • संदीप द्विवेदी 'वाहिद काशीवासी'
  • आशीष यादव

Chaatak's Groups

 

Chaatak's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
Gonda Uttar-Prdesh
Native Place
Gonda
Profession
Farmer
About me
मैंने मंजिल को तलाशा मुझे बाज़ार मिले!

Chaatak's Photos

  • Add Photos
  • View All

Chaatak's Blog

अपील

मेरे बड़े भाई का लीवर ट्रांसप्लांट आपरेशन गुडगाँव मेदान्ता अस्पताल में है| खून की जरूरत है वे वार्ड में एडमिट हैं| गुडगाँव, दिल्ली, नोयडा व् आस-पास रहने वाले सभी सुधी ब्लॉगर बंधुओं और मित्रों से अपील है कि यदि संभव हो तो मेरे बड़े भाई की जीवन रक्षा हेतु रक्तदान करें । हम आजीवन आपके आभारी रहेंगे । यहाँ पर मैं परम मित्र भाई सन्तोष जी का हार्दिक आभार व्यक्त करता हूँ जिन्होंने आज अपने पांच मित्रो के साथ पहुंचकर रक्तदान किया। अभी भी लगभग 30 यूनिट रक्त रक्त की आवश्यकता है । धन्यवाद चातक…

Continue

Posted on May 18, 2012 at 2:17pm — 7 Comments

मत जाओ !

मत जाओ ! मत जाओ !

कैसे कहें हम उनसे कि आज, मत…

Continue

Posted on March 22, 2012 at 4:22pm — 5 Comments

मैंने जीना चाहा था

सुर्ख इबारत बयाँ करेगी – मैंने जीना चाहा था,

चाक कलेजे के ज़ख्मों को मैंने सीना चाहा था;

जो भी आया उसने ही कुछ दुखते छाले फोड़ दिए,

वहशत की आग बुझाने को मेरे सब सपने तोड़ दिए;

तेरे आँचल के धागों से रिसना ढकना चाहा था,

सुर्ख इबारत बयाँ करेगी- मैंने जीना चाहा था |

अपनी ही रुसवाई…

Continue

Posted on March 12, 2012 at 11:31am — 22 Comments

Comment Wall (9 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 7:38pm on April 15, 2012, SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR said…

जो भी आया उसने ही कुछ दुखते छाले फोड़ दिए,

वहशत की आग बुझाने को मेरे सब सपने तोड़ दिए;

चातक जी आज के इस दर्द भरे जहां में ये भी देखने को मिलता है ...खूबसूरत ...

भ्रमर ५ 


At 10:42pm on March 16, 2012,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

At 6:25am on March 15, 2012, JAWAHAR LAL SINGH said…

सुर्ख इबारत बयाँ करेगी- मैंने जीना चाहा था |

अपनी ही रुसवाई…

बहुत  खूब!

At 7:51pm on March 13, 2012, पियूष कुमार पंत said…

बहुत शुक्रिया चातक जी...... 

At 4:43pm on March 13, 2012, संदीप द्विवेदी 'वाहिद काशीवासी' said…

thanks Chaatak ji. Regards,

At 9:42am on March 13, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

ना कोई दरकार और थी, ना कुछ लेना चाहा था,
सुर्ख इबारत बयान करेगी – मैंने जीना चाहा था |

स्नेही चातक जी,  बहुत सुन्दर भाव पूर्ण अभिव्यक्ति. बधाई.

At 9:38am on March 13, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

सुन्दर विचारों की धरती पर आप का स्वागत है स्नेही चातक जी, 

At 10:12pm on March 12, 2012, वीनस केसरी said…

ओ. बी. ओ. परिवार आपका हार्दिक स्वागत करता है

At 1:02pm on March 12, 2012, संदीप द्विवेदी 'वाहिद काशीवासी' said…

स्वागत है चातकजी|

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Chetan Prakash commented on Deepanjali Dubey's blog post ग़ज़ल: चलते चलते राह में बनते गए अफ़साना हम
"खूबसूरत ग़ज़ल हुई है, सु श्री  Deepanjali Dubey ji ! तहे दिल मुबारकबाद, आपको! "
4 hours ago
सालिक गणवीर commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसके हिस्से में क्यों रास्ता कम है- लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"भाई लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी सादर अभिवादन अच्छी  ग़ज़ल  हुई…"
5 hours ago
सालिक गणवीर commented on Deepanjali Dubey's blog post ग़ज़ल: चलते चलते राह में बनते गए अफ़साना हम
" मुहतरमा Deepanjali Dubey  जी आदाब बहुत उम्दः ग़ज़ल कही है आपने. बधाइयाँँ स्वीकार करें."
5 hours ago
सालिक गणवीर commented on Md. Anis arman's blog post ग़ज़ल
"भाई अनीस अरमान जी आदाब बहुत उम्दः ग़ज़ल कही है आपने. बधाइयाँँ स्वीकार करें."
5 hours ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post मंज़िल की जुस्तजू में तो घर से निकल पड़े..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदरणीय  Chetan Prakash जी सादर प्रणाम ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिति और सराहना के लिए आपका शुक्रगु़ज़ार…"
5 hours ago
Deepanjali Dubey posted a blog post

ग़ज़ल: चलते चलते राह में बनते गए अफ़साना हम

2122 2122 2122 212.चलते चलते राह में बनते गए अफ़साना हम जो मिला जीवन में उसका करते हैं शुकराना…See More
6 hours ago
Chetan Prakash commented on सालिक गणवीर's blog post मंज़िल की जुस्तजू में तो घर से निकल पड़े..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदाब,  सालिक गणवीर साहब,  छोटी  सी किन्तु  खूबसूरत ग़ज़ल  कही आपने,…"
7 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 123 in the group चित्र से काव्य तक
"हार्दिक स्वागत है, सुधीजनो !"
16 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Sushil Sarna's blog post दोहा त्रयी. . . .
"वाह .. आपकी छांदसिक यात्रा के प्रति साधुवाद  शुभातिशुभ"
16 hours ago
Md. Anis arman posted a blog post

ग़ज़ल

12122, 121221)वो मिलने आता मगर बिज़ी थामैं मिलने जाता मगर बिज़ी था2)था इश्क़ तुझसे मुझे भी यारा तुझे…See More
20 hours ago
Sushil Sarna posted blog posts
20 hours ago
सालिक गणवीर posted blog posts
20 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service