For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Usha Awasthi
  • Female
  • UP
  • India
Share
 

Usha Awasthi's Page

Latest Activity

Samar kabeer commented on Usha Awasthi's blog post रिश्ते तो कपड़े हैं
"//जनाब मुहम्मद आरिफ साहब, आप ख़ुलेआम (श्रीमती उषा अवस्थी जी, जोकि एक वरिष्ठ नागरिक हैं) को अपमानित कर रहे हैं. एक बुजुर्ग महिला, हरेक नाम के साथ आदरणीय जोड़कर लिखेगी तो अटपटा नहीं लगेगा? वे सब नामों के आगे 'जी' लगाकर संबोधित कर रही हैं.…"
Oct 10
Vinita Shukla commented on Usha Awasthi's blog post रिश्ते तो कपड़े हैं
"जनाब मुहम्मद आरिफ साहब, आप ख़ुलेआम (श्रीमती उषा अवस्थी जी, जोकि एक वरिष्ठ नागरिक हैं) को अपमानित कर रहे हैं. एक बुजुर्ग महिला, हरेक नाम के साथ आदरणीय जोड़कर लिखेगी तो अटपटा नहीं लगेगा? वे सब नामों के आगे 'जी' लगाकर संबोधित कर रही हैं. क्या…"
Oct 9
Mohammed Arif commented on Usha Awasthi's blog post रिश्ते तो कपड़े हैं
"आदरणीया उषा अवस्थी जी आदाब,                                      ओबीओ साहित्य का एक लब्ध प्रतिष्ठ मंच है । इस मंच पर बहुत ही सम्मान और गरिमा का ध्यान दिया…"
Oct 9
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post रिश्ते तो कपड़े हैं
"समर कबीर जी, हर बात हरेक पर लागू नहीं होती,धन्यवाद।"
Oct 8
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post रिश्ते तो कपड़े हैं
"नीलम उपाध्याय जी, धन्यवाद।"
Oct 8
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post रिश्ते तो कपड़े हैं
"मोहम्मद आरिफ जी, शुक्रिया।"
Oct 8
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post रिश्ते तो कपड़े हैं
"मोहम्मद आरिफ जी, शुक्रियि।"
Oct 8
Usha Awasthi joined Admin's group
Thumbnail

धार्मिक साहित्य

इस ग्रुप मे धार्मिक साहित्य और धर्म से सम्बंधित बाते लिखी जा सकती है,See More
Oct 7
डॉ छोटेलाल सिंह replied to Usha Awasthi's discussion बाल कविता in the group बाल साहित्य
"बहुत ही सुंदर बाल कविता बधाई हो आदरणीया ऊषा अवस्थी जी "
Sep 26
Usha Awasthi updated their profile
Sep 7
Usha Awasthi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-94
"उषा अवस्थी रिमझिम-रिमझिम बदरा बरसे (अजहूँ न आए पिया रे)2 (ये बदरा कारे कजरारे बार-बार आ जाएँ दुआरे)2 घर आँगन सब सूना पड़ा रे सूनी सेजरिया रे रिमझिम - - - - (तन मन ऐसी अगन लगाए जो बदरा से बुझे न बुझाए)2 अब तो अगन बुझे तबहीं जब आएँ साँवरिया रे रिमझिम -…"
Aug 11
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post प्राचीन गुरुकुल
"धन्यवाद"
Aug 7
babitagupta commented on Usha Awasthi's blog post प्राचीन गुरुकुल
"गुरूकुल की अहमियत को दर्शाती रचना, हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिएगा आदरणीया ऊषा दी।"
Aug 6
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Usha Awasthi's blog post प्राचीन गुरुकुल
"बेहतरीन रचना । हार्दिक बधाई , आदरणीया.."
Aug 6
Neelam Upadhyaya commented on Usha Awasthi's blog post प्राचीन गुरुकुल
"आदरणीया उषा अवस्थी  जी, अच्छी रचना की प्रस्तुति के लिए बधाई। "
Aug 6
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post प्राचीन गुरुकुल
"आदाब, शुक्रिया"
Aug 5

Profile Information

Gender
Female
City State
Lucknow
Native Place
Uttar Pradesh
Profession
Author

ब्राहम्ण

उषा अवस्थी

मान दिया होता यदि तुमने
ब्राम्हण को , सुविचारों को
सदगुण की तलवार काटती
निर्लज्जी व्यभिचारों को

उसको काया मत समझो ,
ज्ञान विज्ञान समन्वय है
द्वैत भाव से मुक्त, जितेन्द्रिय
सत्यप्रतिज्ञ , समुच्चय है

कर्म , वचन , मन से पावन
वह ब्रम्हपथी , समदर्शी है
नहीं जन्म से , सतत कर्म से
तेजस्वी , ब्रम्हर्षि है

मौलिक एवं अप्रकाशित

Usha Awasthi's Blog

आधुनिक शिक्षा संस्थान

शिक्षा संस्थाओं के
हाल आज और हैं
छात्र यूनियनों में
लड़ाई  के दौर हैं

शिक्षालय आज 
राजनीति के अड्डे हैं
कमाई,चुनाव के
थ॓धों पर थंधे हैं

फैली अराजकता
अलग -अलग झंडे हैं
परिसर में घूमते
दलालों के पंडे हैं


मौलिक एवं अप्रकाशित

Posted on August 4, 2018 at 10:30am

प्राचीन गुरुकुल

पूर्णतया शिक्षा को गुरू समर्पित थे

कंद,मूल,फल,बिना जोता अन्न खाते थे

पठन -पाठन को समय बचाते थे

तभी तो गुरुजन श्रृषि कहलाते थे



गुरुकुल के प्राँगण में व्यर्थ वाद वर्जित था

गुरू ज्ञान-धारा से हर छात्र सिंचित था

चरणों में उनके नतमस्तक हो जाते थे

तभी तो गुरुजन श्रृषि कहलाते थे



राजा उनसे मिलने गुरुगृह जब जाते थे

आयुध अपने बाहर रख अन्दर आते थे

उलझनें शासन की,उन स॔ग सुलझाते थे

तभी तो गुरुजन श्रृषि कहलाते थे



मौलिक एव॔…

Continue

Posted on August 4, 2018 at 10:30am — 8 Comments

जरा धीरे चलो

जिन्दगी थोड़ा ठहर जाओ
जरा धीरे चलो
तेज इस रफ्तार से 
घात से प्रतिघात से 
वक्त रहते , सम्भल जाओ
जरा धीरे चलो
जिन्दगी - - - -
कामना के ज्वार में
मान के अधिभार में
डूबने से बच , उबर जाओ
जरा धीरे चलो
जिन्दगी - - - -
शब्दाडम्बरों के
उत्तरों प्रत्युत्तरों के
जाल से बच कर , निकल जाओ 
जरा धीरे चलो
जिन्दगी - - - -

(मौलिक एवम अप्रकाशित)

Posted on June 12, 2018 at 10:27pm — 11 Comments

कितने रोगों से बच जाते

जब कागज के ये रुपये

सुन्दर सिक्कों में ढल जाते

तब सचमुच अच्छा होता

कितने रोगों से बच जाते



कम से कम गंदे नोटों को

हमें नहीं छूना पड़ता

जिनमें गुटखा पीक लगा हो

और हिसाब लिखा चुभता



तभी पुराने महाराजे

सुन्दर सिक्के गढ़वाते थे

जो भी हो , गंदे सिक्के

पानी  से तो धुल जाते थे

सिक्कों की प्राचीन प्रथा

सचमुच में कितनी अच्छी थी

स्वस्थ रहे जनता अपनी

यह सुभग भावना सच्ची…

Continue

Posted on May 21, 2018 at 7:30pm — 2 Comments

Comment Wall (2 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 6:29am on August 5, 2018, Kishorekant said…

सुन्दर रचना केलिये हार्दिक अभिनंदन सुश्री उषा अवस्थिजी ।

At 9:01pm on September 9, 2017,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

ग़ज़ल सीखने एवं जानकारी के लिए....

 ग़ज़ल की कक्षा 

 ग़ज़ल की बातें 

 

भारतीय छंद विधान से सम्बंधित जानकारी  यहाँ उपलब्ध है.

|

|

|

|

|

|

|

|

आप अपनी मौलिक व अप्रकाशित रचनाएँ यहाँ पोस्ट कर सकते है.

और अधिक जानकारी के लिए कृपया नियम अवश्य देखें.

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतुयहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे.

 

ओबीओ पर प्रतिमाह आयोजित होने वाले लाइव महोत्सव, छंदोत्सव, तरही मुशायरा व लघुकथा गोष्ठी में आप सहभागिता निभाएंगे तो हमें ख़ुशी होगी. इस सन्देश को पढने के लिए आपका धन्यवाद.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ६७
"आ. भाई राज नवादवी जी, सादर अभिवादन। सुंदर गजल हुयी है । हार्दिक बधाई ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on दिनेश कुमार's blog post ग़ज़ल -- नेकियाँ तो आपकी सारी भुला दी जाएँगी / दिनेश कुमार
"आ. भाई दिनेश जी, सुंदर गजल हुयी है । हार्दिक बधाई ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post जलूँ  कैसे  तुम्हारे बिन - लक्ष्मण धामी"मुसाफिर" ( गजल )
"आ. भाई बृजेश जी, सादर आभार।"
1 hour ago
क़मर जौनपुरी commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ६८
"बहुत बहुत शुक्रिया मोहतरम समर कबीर साहब।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ६८
""  जब भी होता है मेरे क़ुर्ब में तू दीवाना मेरी नस नस में भी दौड़े है लहू दीवाना" सानी…"
1 hour ago
Samar kabeer commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ६८
"जनाब क़मर जौनपुरी साहिब आदाब,ओबीओ मंच पर आपका स्वागत है । "बू" शब्द हिन्दी और उर्दू में…"
2 hours ago
Profile IconDR ARUN KUMAR SHASTRI and क़मर जौनपुरी joined Open Books Online
6 hours ago
DR ARUN KUMAR SHASTRI shared Admin's group on Facebook
7 hours ago
DR ARUN KUMAR SHASTRI shared Admin's group on Facebook
7 hours ago
क़मर जौनपुरी posted a blog post

गज़ल

2122  1122  1122   22ग़ज़ल ***** तेरे दिल को मैं निगाहों में बसा लेता हूँ। तेरा ख़त जब मैं कलेजे से…See More
10 hours ago
santosh khirwadkar posted a blog post

मिट गए नक़्श सभी....संतोष

फ़ाइलातुन फ़इलातुन फ़इलातुन फ़ेलुन/फ़इलुनमिट गये नक़्श सभी दिल के दिखाऊँ कैसेएक भुला हुआ क़िस्सा…See More
10 hours ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" posted a blog post

होश की मैं पैमाइश हूँ:........ग़ज़ल, पंकज मिश्र..........इस्लाह की विनती के साथ

22 22 22 2मयख़ानों की ख़ाहिश हूँ होश की मैं पैमाइश हूँचाँद न कर मुझ पर काविश ब्लैक होल की नाज़िश हूँहल…See More
10 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service