For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

मिथिलेश वामनकर's Comments

Comment Wall (96 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 9:44pm on April 21, 2016, Dr. Ehsan Azmi said…
मक़बरा का वज़्न है 212/211
At 9:40pm on April 21, 2016, Dr. Ehsan Azmi said…
धन्यवाद मिथीलेश भाई
At 7:08pm on April 21, 2016, Anuj said…

धन्यवाद मिथिलेश जी !

मुझे कुछ चीजे जननी थी . 

जैसे 'मकबरा ' का सही वजन क्या होगा .

अभी के लिए इतना ही .

At 1:16pm on March 23, 2016, raju mirza said…

mithilesh saheb aap ka bahot shukriya mujhey ummed hai k is page k baarey me aap meri puri madad karengey

At 3:21pm on March 7, 2016, Anupriya said…
शुक्रिया मिथलेश जी...अभी सीखना शुरू किया है हमने...गजलों में खास रुची है.. कोशिश रहेगी कि इस बार के तरही मुशायरे में हम भी शिरकत कर पाएं.
At 6:58pm on February 27, 2016, सीमा शर्मा मेरठी said…
वाह वाह्ह बहुत खूब गजल हुई मिथिलेश जी बधाई अआपको
At 11:25pm on February 15, 2016, शशि शर्मा 'खुशी' said…

ओ.बी.ओ. परिवार का सदस्य बनने का जो गौरव आप ने मुझे दिया उसके लिये दिल से आभार | इस परिवार से जुडकर आपके निर्देशन में शायद हम भी कुछ अच्छा लिखना सीख जायें |  आपको व आपके परिवार को अनंत शुभकामनायें | आपकी गृहस्थी व ये ओ.बी.ओ. परिवार भी सदैव फलता-फूलता रहे यही मंगल कामना है |

At 4:01pm on February 10, 2016, Madanlal Shrimali said…
बहुत बहुत धन्यवाद।
At 8:33am on February 9, 2016, Subhash rawat said…
आदरणीय प्रणाम, आपका बहुत बहुत शुक्रिया। अप्रकाशित रचना से तात्पर्य क्या है? रचना किसी मैगजीन, अखवार में प्रकाशित न हुई हो या साथ ही साथ फ़ेसबुक इत्यादि सोशल साईट पर भी न कहीं पोस्ट की हों ??? कृपया मार्ग दर्शन करें ।।। सादर धन्यवाद।
At 7:38am on January 27, 2016, Omprakash Kshatriya said…
बहुतबहुत शुक्रिया आप का आदरणीय मिथिलेश वामनकर जी . आप ने मेरा जन्म दिन याद रख कर मुझे अमूल्य/अतुल्य शुभकामनाएं दी. इस हेतु मैं आप का आजीवन ऋणी रहूंगा .
At 2:06pm on January 6, 2016, Dr Ashutosh Mishra said…

aadarneey mithilesh jee nav barsh par aapko hardikshubhkaamnaayein saadar 

At 7:13pm on January 3, 2016, Sushil Sarna said…

नूतन वर्ष 2016 आपको सपरिवार मंगलमय हो। मैं प्रभु से आपकी हर मनोकामना पूर्ण करने की कामना करता हूँ।

सुशील सरना

At 8:57pm on December 24, 2015, Shubhranshu Pandey said…

धन्य्वाद मिथिलेश जी,

At 8:24pm on December 17, 2015, Nirdosh Dixit said…
सादर आभार आदरणीय मिथिलेश जी।
At 5:34pm on December 3, 2015,
सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey
said…

इतनी स्वादिष्ट शुभकामना के लिए हार्दिक धन्यवाद आदरणीय मिथिलेश भाई.. 

:-)))

At 11:05am on November 18, 2015, Mahendra Kumar said…
हार्दिक आभार
At 9:14am on November 18, 2015, pratibha pande said…

आपका हार्दिक आभार आदरणीय 

At 10:42am on October 28, 2015, kiran said…

ji shukriya...

At 9:47pm on October 22, 2015, Tasdiq Ahmed Khan said…

aap ka bahut bahut shukriya mithlesh ji

At 2:15pm on October 15, 2015,
सदस्य टीम प्रबंधन
Dr.Prachi Singh
said…

जन्मदिन पर स्नेहसिक्त शुभकामनाओं के लिए आ० मिथिलेश जी आपका और आपके माध्यम से ओबीओ परिवार के सभी सदस्यों का बहुत बहुत धन्यवाद..

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

AMAN SINHA posted a blog post

हर बार नई बात निकल आती है

बात यहीं खत्म होती तो और बात थी यहाँ तो हर बात में नई बात निकल आती है यूँ लगता है जैसे कि ये कोई…See More
18 hours ago
Admin posted a discussion

"ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-106 (विषय: इंसानियत)

आदरणीय साथियो,सादर नमन।."ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 में आप सभी का हार्दिक स्वागत है। इस बार…See More
yesterday
Aazi Tamaam posted a blog post

ग़ज़ल: बाद एक हादिसे के जो चुप से रहे हैं हम

221 2121 1221 212बाद एक हादिसे के जो चुप से रहे हैं हमअपनी ही सुर्ख़ आँख में चुभते रहे हैं हमये और…See More
yesterday
Usha Awasthi posted a blog post

धूम कोहरा

धूम कोहराउषा अवस्थीधूम युक्त कोहरा सघनमचा हुआ कोहराम किस आयुध औ कवच सेजीतें यह संग्राम?एक नहीं,…See More
yesterday
PHOOL SINGH posted a blog post

वर्तमान के सबसे लोकप्रिय नेता- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नए भारत के निर्माण की खातिर, सुशासन का संकल्प लाए मोदीभ्रष्टाचार मुक्त भारत होगा, ये सोचकर आए…See More
yesterday
मनोज अहसास posted a blog post

अहसास की ग़ज़ल:मनोज अहसास

121 22 121 22 121 22 121 22हज़ार लोगों से दोस्ती की हज़ार शिकवे गिले निभाये।किसी ने लेकिन हमें न समझा…See More
yesterday
Sushil Sarna posted blog posts
yesterday
Dr.Vijay Prakash Sharma posted a photo
yesterday
Avery khan is now a member of Open Books Online
yesterday
Ashok Kumar Raktale added a discussion to the group पुस्तक समीक्षा
Thumbnail

पुस्तक समीक्षा : मोहरे (उपन्यास)

समीक्षा पुस्तक   : मोहरे (उपन्यास)लेखक              : दिलीप जैनमूल्य               :  रुपये…See More
yesterday
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-164
"मिलने वो मुझसे आएँगे अब के बहार मेंये उम्र कट न जाए इसी इन्तिज़ार में (रिप्लाई बॉक्स खुला है तो…"
yesterday
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-164
"आदरणीय, अमित जी आप सही कह रहे हैं। ऐसी अवस्था, सभी, में / पर / पे महर्षि पाणिनी की व्याकरण के…"
Sunday

© 2024   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service