For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

कभी किसी की चुप्पी

कितना उदास कर जाती है।

साँसे  भी भारी होती जाती है।

मन हो जाता है उस झील- सा

जो कब से बारिश के इंतजार मे  थम सी गई हो 

और उसकी लहरें भी उंघ रही हो किसी किनारे बैठ के

शाम भी तो धीरे से गुजरी है अभी कुछ फुसफूसाती हुई

उसे भी किसी की चुप्पी का खयाल था शायद।

 

मौलिक व अप्रकाशित

Views: 398

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on July 13, 2015 at 11:01pm

हम दुखी तो जग दुखी..  यह एक विशेष मनःस्थिति होती है. उससे गुजरती हुई दशा कविता के संयत शब्दों में अभिव्यक्त हुई है.  बधाई स्वीकारें महिमाजी..
शुभ-शुभ

Comment by maharshi tripathi on July 5, 2015 at 10:20pm

सुन्दर कविता ,,हार्दिक बधाई |

Comment by Krish mishra 'jaan' gorakhpuri on July 5, 2015 at 3:00pm

बहुत सुन्दर बधाई! आ० महिमा जी!

Comment by kanta roy on July 4, 2015 at 11:38pm
बहुत खूब बात करती है चुप्पी आपकी चुपके से ... दिलों का राज खोलती आपकी चुप्पी जैसे चुपके से ......... बहुत ही शानदार लिखती है आप आदरणीया महिमा श्री जी ...... बधाई स्वीकार करें ।
Comment by shree suneel on July 4, 2015 at 5:48pm
व्वाहह!... क्या ख़ूब कल्पना है. इस सुन्दर कविता के लिए हार्दिक बधाइयाँ आपको आदरणीया महिमा श्री जी.
Comment by MAHIMA SHREE on July 3, 2015 at 8:53pm

आ. मिथिलेश जी..कविता आपको अच्छी लगी , जानकर खुशी हुई....सराहना के  लिए हृदय से आभारी हूँ..

Comment by MAHIMA SHREE on July 3, 2015 at 8:51pm

पसंद करने के लिए आपका बहुत आभार सलीम जी.


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by मिथिलेश वामनकर on July 3, 2015 at 2:00pm

बहुत सुन्दर भाव से सजी रचना है इस सुन्दर प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई ..... रचना के भाव और कहन इतने शानदार है कि मुग्ध हूँ. अभी रचना अतुकांत और नज्म के बीच कहीं ठहरी है...... रचना में गेयता आ जाए तो कमाल की नज्म बनकर निकलेगी.

Comment by saalim sheikh on July 3, 2015 at 12:59pm

बेहद उम्दा अंदाज़-ए-बयाँ ! 
लाजवाब नज़्म के लिए बधाई !

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Gurpreet Singh jammu replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"आदरणीय तस्दीक अहमद खान जी बहुत अच्छी ग़ज़ल  कही है आपने। मुझे लगता है कि आदरणीय अमित जी द्वारा…"
6 minutes ago
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"आदरणीय अजय गुप्ता 'अजेय भाई आपकी हौसला अफ़्जाई के लिए हृदय तल से आभार। कृपया स्पष्ट करें इस…"
9 minutes ago
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"जनाब Tasdiq Ahmed Khan साहब आप शायद इस्लाह समझ नहीं पाए //अब तो चहरे से पर्दा हटा दो…"
14 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"आदरणीय दया राम साहिब, ग़ज़ल पसंद करने के लिए आपका बहुत-बहुत शुक्रिया "
23 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"जनाब अजय साहिब, ग़ज़ल पसंद करने के लिए आपका बहुत-बहुत शुक्रिया "
25 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"जनाब समर साहिब आदाब,  टाइप गलती कीबोर्ड की वजह से है मेरा ग़ज़ल का प्रयास आपको अच्छा लगा. बहुत…"
26 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"जनाब अमित जी, हौसला अफजाई का बहुत बहुत शुक्रिया. नुक्ते की परेशानी तो मेरे कीबोर्ड की वजह से…"
29 minutes ago
अजय गुप्ता 'अजेय replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"सम्माननीय अमित भाई, ग़ज़ल का हर शेर बहुत उम्दा और क़ाबिले-तारीफ़ है। मतले का ऊला एक नज़र में विपरीत अर्थ…"
33 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"आ. भाई जैफ जी, सादर अभिवादन।अच्छी गजल हुई है, हार्दिक वधाई।"
37 minutes ago
अजय गुप्ता 'अजेय replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिति के लिए आभार श्री मैथानी जी"
37 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"जी,बहतर ।"
46 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"आ. भाई दण्डपाणि जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति और उत्साहवर्धन के लिए आभार।"
46 minutes ago

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service