For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Naveen Mani Tripathi
Share
 

Naveen Mani Tripathi's Page

Latest Activity

Mohammed Arif commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आदरणीय नवीनमणि त्रिपाठी जी आदाब,                          बहुत ही अच्छे अश'आर । हर शे'र बढ़िया । दिली मुबारकबाद क़ुबूल करें । आली जनाब मोहतरम समर कबीर साहब की इस्लाह का संज्ञान…"
7 hours ago
Samar kabeer commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"जनाब नवीन मणि त्रिपाठी जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । 'चिराग़ उमीद तक का जो बुझा गए' इस मिसरे में ऐब-ए-तनाफ़ुर है 'तक का',इस मिसरे को यूँ कर सकते हैं:- 'चिराग़ जो उमीद का बुझा गए' 4थे शैर का मफ़हूम साफ़…"
7 hours ago
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल

1212 1212 1212जगी थीं जो भी हसरतें, सुला गए ।निशानियाँ वो प्यार की मिटा गए।।उन्हें था तीरगी से प्यार क्या बहुत।चिराग उमीद तक का जो बुझा गए ।।पता चला न,  सर्द कब हुई हवा।ठिठुर ठिठुर के रात हम बिता गए ।।लिखा हुआ था जो मेरे नसीब में ।मुक़द्दर आप अदू का वो बना गए।।नज़र पड़ी न आसुओं पे आपकीजो मुस्कुरा के मेरा दिल दुखा गये ।।न जाने कहकशॉ से टूटकर कई ।सितारे क्यों ज़मीं पे आज आ गए ।।गुलों के हाल पे कली जो थी दुखी ।उसी की लोग कीमतें लगा गए ।--नवीन मणि त्रिपाठीमौलिक अप्रकाशितSee More
13 hours ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आद0 नवीन जी सादर अभिवादन। बेहतरीन ग़ज़ल कही आपने, शैर दर शैर मुबारकबाद कुबूल करें। सादर"
yesterday
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Naveen Mani Tripathi's blog post उसकी सूरत नई नई देखो
"आद0 नवीन जी सादर अभिवादन। आद0 आली जनाब समर कबीर साहब के इस्लाह से ग़ज़ल में…"
yesterday
Rakshita Singh commented on Naveen Mani Tripathi's blog post उसकी सूरत नई नई देखो
"आदरणीय , नवीन जी बहुत ही खूबसूरत गज़ल , बहुत बहुत बधाई।"
Thursday
Rakshita Singh commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आदरणीय , नवीन जी आधुनिक युग की वास्तविकता को आपने बहुत ही सुन्दर पंक्तियों में पिरोया..बधाई स्वीकार करें।"
Thursday
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post उसकी सूरत नई नई देखो
"नमन सर "
Thursday
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 कबीर सर सादर प्रणाम  । अवश्य ठीक करता हूँ ।"
Thursday
Samar kabeer commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"जनाब नवीन मणि त्रिपाठी जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । छटे शैर के सानी मिसरे में 'जुर्म' की जगह "ज़ुल्म" कर लें । सातवें शैर के सानी मिसरे में ऐब-ए-तनाफ़ुर है,'मुल्क को',इसे "देश को" कर सकते…"
Thursday
Samar kabeer commented on Naveen Mani Tripathi's blog post उसकी सूरत नई नई देखो
"बहुत ख़ूब ।"
Thursday
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post उसकी सूरत नई नई देखो
"जनाब अफरोज सहर साहब शुक्रिया के साथ अमीन"
Thursday
Afroz 'sahr' commented on Naveen Mani Tripathi's blog post उसकी सूरत नई नई देखो
"जनाब नवीन मणि जी इस सुंदर रचना पर बहुत बधाई आपको,,,,"
Thursday
Naveen Mani Tripathi posted blog posts
Thursday
Samar kabeer commented on Naveen Mani Tripathi's blog post उसकी सूरत नई नई शायद
"आमीन, सुम्मा आमीन ।"
Thursday
Afroz 'sahr' commented on Naveen Mani Tripathi's blog post उसकी सूरत नई नई शायद
"आमीन,,,"
Thursday

Profile Information

Gender
Male
City State
Kanpur , Uttar Pradesh
Native Place
Basti
Profession
Govt. Service
About me
I am a poet and trained astrologer. Write geet and ghazal.

Naveen Mani Tripathi's Blog

ग़ज़ल

1212 1212 1212

जगी थीं जो भी हसरतें, सुला गए ।

निशानियाँ वो प्यार की मिटा गए।।

उन्हें था तीरगी से प्यार क्या बहुत।

चिराग उमीद तक का जो बुझा गए ।।

पता चला न,  सर्द कब हुई हवा।

ठिठुर ठिठुर के रात हम बिता गए ।।

लिखा हुआ था जो मेरे नसीब में ।

मुक़द्दर आप अदू का वो बना गए।।

नज़र पड़ी न आसुओं पे आपकी

जो मुस्कुरा के मेरा दिल दुखा गये ।।

न जाने कहकशॉ से टूटकर कई ।

सितारे क्यों…

Continue

Posted on December 11, 2017 at 11:09pm — 2 Comments

ग़ज़ल

2122 2122 212

फिर कोई सिक्का उछाला जा रहा ।

रोज मुझको आजमाया जा रहा ।।

मानिये सच बात मेरी आप भी ।

देश को बुद्धू बनाया जा रहा ।।

कौन कहता है यहां सब ठीक है ।

हर गधा सर पे बिठाया जा रहा ।।



हो रहे मतरूफ़ सारे हक यहां ।

राज अंग्रेजों का लाया जा रहा ।।

हर जगह रिश्वत है जिंदा आज भी ।

खूब बन्दर को नचाया जा रहा ।।

कुछ हिफाज़त कर सकें तो कीजिये ।

बेसबब ही जुर्म ढाया जा रहा…

Continue

Posted on December 7, 2017 at 1:58am — 4 Comments

उसकी सूरत नई नई देखो

2122 1212 22

उसकी सूरत नई नई देखो ।

तिश्नगी फिर जगा गई देखो।।

उड़ रही हैं सियाह जुल्फें अब ।

कोई ताज़ा हवा चली देखो ।।

बिजलियाँ वो गिरा के मानेंगे ।

आज नज़रें झुकी झुकी देखो ।।

खींच लाई है आपको दर तक ।

आपकी आज बेखुदी देखो ।।

रात गुजरी है आपकी कैसी ।

सिलवटों से बयां हुई देखो ।।

डूब जाएं न वो समंदर में ।

क्या कहीं फिर लहर उठी देखो ।।

हट गया जब नकाब चेहरे से ।

पूरी बस्ती यहां…

Continue

Posted on December 5, 2017 at 7:00pm — 20 Comments

ग़ज़ल

2122 1212 22

वक्त के साथ खो गयी शायद ।

तेरे होठों की वो हँसी शायद ।।

बन रहे लोग कत्ल के मुजरिम।

कुछ तो फैली है भुखमरी शायद ।।

मां का आँचल वो छोड़ आया है ।

एक रोटी कहीं दिखी शायद ।।

है बुढापे में इंतजार उसे ।

हैं उमीदें बची खुची शायद ।।

लोग मसरूफ़ अब यहां तक हैं ।

हो गयी बन्द बन्दगी शायद ।।

खूब मतलब परस्त है देखो ।

रंग बदला है आदमी शायद…

Continue

Posted on December 5, 2017 at 2:30pm — 3 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 2:14am on May 8, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार की ओर से आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें!

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Mohammed Arif commented on रामबली गुप्ता's blog post चुनावी दोहे-रामबली गुप्ता
"आदरणीया राजेश कुमारी जी आदाब,                    …"
12 minutes ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post जाड़े के दोहे
"बहुत -बहुत आभार सोमेश  कुमार जी ।"
18 minutes ago
Samar kabeer commented on Kalipad Prasad Mandal's blog post ग़ज़ल -दिल को’ जिसने बेकरारी दी वही अहबाब था-कालीपद 'प्रसाद'
"'बेताब' इसलिये नहीं ले सकते कि सानी में "शबताब" क़ाफ़िया है, हाँ एक विकल्प है…"
30 minutes ago
Rohit dobriyal"मल्हार" commented on rajesh kumari's blog post इश्क़ करने की चलो आज सजा हो जाए (ग़ज़ल 'राज')
"वाह क्या खूब लिखा है...... बेवफाई का तो दस्तूर निभाया तुमने   अब कोई रस्म जुदाई की अदा हो…"
1 hour ago
Manoj kumar shrivastava commented on डॉ पवन मिश्र's blog post नवगीत- लुटने को है लाज द्रौपदी चिल्लाती है
"आदरणीय डाॅ. पवन मिश्र जी सादर वन्दे! बहुत ही अच्छी रचना है। सादर बधाई स्वीकार करें।"
1 hour ago
रामबली गुप्ता posted a blog post

चुनावी दोहे-रामबली गुप्ता

आज चुनावी रंग में, रँगे गली औ' गाँव। प्रत्याशी हर व्यक्ति के, पकड़ रहे हैं पाँव।।1।।पोस्टर बैनर से…See More
2 hours ago
Manoj kumar shrivastava commented on Veena Sethi's blog post जीवन
"आदरणीया वीणा जी सादर नमस्कार! सकारात्मक भावनाओं की ओर इंगित करती हुई इस कविता के लिए आपको कोटिशः…"
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post ज़हनियत (लघुकथा)
"आद० सोमेश कुमार जी की बात से मैं भी सहमत हूँ .  बाकि लघु कथा तो हमेशा की तरह बहुत अच्छी लिखी…"
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on नादिर ख़ान's blog post बीमार?
"कम शब्दों में आज के मेडिकल सिस्टम की पोल खोल कर रख दी बेहतरीन लघु कथा आद० नादिर खान जी बहुत बहुत…"
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on Manan Kumar singh's blog post बापू की जय(लघु कथा)
"वाह्ह्ह वाह्ह्ह बेहतरीन कटाक्ष करती हुई लघु कथा ..हार्दिक बधाई आद० मनन कुमार जी "
2 hours ago
Kalipad Prasad Mandal commented on Kalipad Prasad Mandal's blog post ग़ज़ल -दिल को’ जिसने बेकरारी दी वही अहबाब था-कालीपद 'प्रसाद'
"आ समर कबीर साहब आदाब , ऐराब का अर्थ उर्दू शब्दकोष के अनुसार वह पैदल सेना जो राजा को बचाने के लिए…"
3 hours ago
Kalipad Prasad Mandal commented on TEJ VEER SINGH's blog post मृत्यु भोज - लघुकथा –
"लघुकथा के के माद्यम से अनादि काल से चला आया कुसंस्कार पर आपने सुन्दर वार किया है आ तेजवीर सिंह…"
3 hours ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service