For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Naveen Mani Tripathi
Share

Naveen Mani Tripathi's Friends

  • Ajay Tiwari
 

Naveen Mani Tripathi's Page

Latest Activity

Rakshita Singh commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आदरणीय नवीन जी नमस्कार, प्रथम चार पंक्तियाँ बहुत ही शानदार पढकर आनंद आ गया ,बहुत बहुत मुबारक। "
Saturday
Samar kabeer commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"जनाब नवीन मणि त्रिपाठी जी आदाब,ग़ज़ल का अच्छा प्रयास हुआ है,बधाई स्वीकार करें । 'हुस्न का बेहतर नज़ारा चाहिए' इस मिसरे में 'बहतर' की जगह "हमको" शब्द उचित होगा,विचार करें । 'चाँद कायम रह सके जलवा तेरा ।आसमा में हर…"
Saturday
Sushil Sarna commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"हुस्न का बेहतर नज़ारा चाहिए ।कुछ तो जीने का सहारा चाहिए ।।हो मुहब्बत का यहां पर श्री गणेश ।आप का बस इक इशारा चाहिए ।। वाह आदरणीय वाह बहुत ही उम्दा ग़ज़ल का सृजन हुआ है। दिल से बधाई स्वीकारें।"
Saturday
डॉ छोटेलाल सिंह commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आदरणीय नवीन मणि त्रिपाठी जी बहुत ही बेहतरीन गजल वाह मन मगन हो गया , बहुत बहुत बधाई"
Friday
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल

2122 2122 212हुस्न का बेहतर नज़ारा चाहिए ।कुछ तो जीने का सहारा चाहिए ।।हो मुहब्बत का यहां पर श्री गणेश ।आप का बस इक इशारा चाहिए ।।हैं टिके रिश्ते सभी दौलत पे जब ।आपको भी क्या गुजारा चाहिए ।।है किसी तूफ़ान की आहट यहां ।कश्तियों को अब किनारा चाहिए ।।चाँद कायम रह सके जलवा तेरा ।आसमा में हर सितारा चाहिए ।।फर्ज उनका है तुम्हें वो काम दें ।वोट जिनको भी तुम्हारा चाहिए ।।अब न लॉलीपॉप की चर्चा करें ।सिर्फ हमको हक़ हमारा चाहिए ।।कब तलक लुटता रहे इंसान यह ।अब तरक्की वाली धारा चाहिए ।।जात मजहब से जरा ऊपर उठो…See More
Wednesday
प्रदीप देवीशरण भट्ट commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"बहुत खूब अच्छि गज़ल  हुई ।बधाई"
Jun 18
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल

221 2121 1221 212ता-उम्र उजालों का असर ढूढ़ता रहा । मैं तो सियाह शब में सहर ढूढ़ता रहा ।।अक्सर उसे मिली हैं ये नाकामयाबियाँ । मंजिल का जो आसान सफ़र ढूढ़ता रहा ।।मुझको मेरा मुकाम मयस्सर हुआ कहाँ । घर अपना तेरे दिल में उतर ढूढ़ता रहा ।।रुसवाइयों के दौर से गुजरा हूँ इस तरह । बस एक मुहब्बत की नज़र ढूढ़ता रहा ।।तुमको अना के दौर में इतनी खबर नहीं । कोई तुम्हारे दिल की डगर ढूढ़ता रहा ।।इन साहिलों को छू के गयी थी जो एक दिन । सागर की मैं वो उठती लहर ढूढ़ता रहा ।।लूटा है कुर्सियों ने…See More
Jun 17
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल- आरजू ही नहीं जब हुई मुख़्तसर

212 212 212 212कीजिये मत अभी रोशनी मुख़्तसर ।आदमी कर न ले जिंदगी मुख़्तसर ।।इश्क़ में आपको ठोकरें क्या लगीं ।दफ़अतन हो गयी बेख़ुदी मुख़्तसर ।।नौजवां भूख से टूटता सा मिला ।देखिए हो गयी आशिक़ी मुख़्तसर ।।गलतियां बारहा कर वो कहने लगे ।क्यूँ हुई मुल्क़ में नौकरी मुख़्तसर ।।कैसे कह दूं के समझेंगे जज़्बात को ।जब वो करते नहीं बात ही मुख़्तसर ।।सिर्फ शिक़वे गिले में सहर हो गयी ।वस्ल की रात होती गयी मुख़्तसर ।।जब रकीबों से उसने मुलाकात की ।आग दिल मे कहीं तो लगी मुख़्तसर ।।कैसे मिलता सुकूँ आखिरी वक्त में ।आरजू ही नहीं…See More
Jun 3
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल- आरजू ही नहीं जब हुई मुख़्तसर

212 212 212 212कीजिये मत अभी रोशनी मुख़्तसर ।आदमी कर न ले जिंदगी मुख़्तसर ।।इश्क़ में आपको ठोकरें क्या लगीं ।दफ़अतन हो गयी बेख़ुदी मुख़्तसर ।।नौजवां भूख से टूटता सा मिला ।देखिए हो गयी आशिक़ी मुख़्तसर ।।गलतियां बारहा कर वो कहने लगे ।क्यूँ हुई मुल्क़ में नौकरी मुख़्तसर ।।कैसे कह दूं के समझेंगे जज़्बात को ।जब वो करते नहीं बात ही मुख़्तसर ।।सिर्फ शिक़वे गिले में सहर हो गयी ।वस्ल की रात होती गयी मुख़्तसर ।।जब रकीबों से उसने मुलाकात की ।आग दिल मे कहीं तो लगी मुख़्तसर ।।कैसे मिलता सुकूँ आखिरी वक्त में ।आरजू ही नहीं…See More
Jun 1
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"बाकी गुरुदेव समर साहब जैसा कहें कर लीजिएगा"
May 25
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"क्या बतलाऊँ मुझको कैसा लगता है  प्यार का हर पल प्यारा प्यारा लगता है | पहले पहले प्यार का जलवा मत पूछो । कड़वा बोलो तो भी मीठा लगता है | बापू का साया बेटे पर होने से  पापा बनकर भी वह बच्चा लगता है | कुछ को लगती दोज़ख़ जैसी ये…"
May 25
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"आ0 सुंदर प्रयास हुआ है । बाकी समर साहब की बातों पर ध्यान दें । सादर ।"
May 25
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"आ0 सुंदर प्रयास हुआ है । ग़ज़ल अभी मेहनत मांग रही है  । बाकी समर साहब की बातों पर ध्यान दें । सादर ।"
May 25
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"आ0 सुंदर प्रयास हुआ है । सातवे और नौवे शेर में तकाबुल रादीफ़ का दोष है । बाकी समर साहब की बातों पर ध्यान दें । सादर ।"
May 25
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"आ0  अच्छी ग़ज़ल हुई इसके लिए आपको हार्दिक बधाई । आखिरी शेर में रादीफ़ टकरा रही है ।"
May 25
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"आ0 अमर साहब बहुत उम्दा ग़ज़ल हुई बधाई आपको ।"
May 24

Profile Information

Gender
Male
City State
Kanpur , Uttar Pradesh
Native Place
Basti
Profession
Govt. Service
About me
I am a poet and trained astrologer. Write geet and ghazal.

Naveen Mani Tripathi's Blog

ग़ज़ल



2122 2122 212

हुस्न का बेहतर नज़ारा चाहिए ।

कुछ तो जीने का सहारा चाहिए ।।

हो मुहब्बत का यहां पर श्री गणेश ।

आप का बस इक इशारा चाहिए ।।



हैं टिके रिश्ते सभी दौलत पे जब ।

आपको भी क्या गुजारा चाहिए ।।

है किसी तूफ़ान की आहट यहां ।

कश्तियों को अब किनारा चाहिए ।।

चाँद कायम रह सके जलवा तेरा ।

आसमा में हर सितारा चाहिए ।।

फर्ज उनका है तुम्हें वो काम दें ।

वोट जिनको भी…

Continue

Posted on June 19, 2019 at 1:12am — 4 Comments

ग़ज़ल

221 2121 1221 212

ता-उम्र उजालों का असर ढूढ़ता रहा ।

मैं तो सियाह शब में सहर ढूढ़ता रहा ।।

अक्सर उसे मिली हैं ये नाकामयाबियाँ ।

मंजिल का जो आसान सफ़र ढूढ़ता रहा ।।

मुझको मेरा मुकाम मयस्सर हुआ कहाँ ।

घर अपना तेरे दिल में उतर ढूढ़ता रहा ।।…

Continue

Posted on June 16, 2019 at 1:10am — 1 Comment

ग़ज़ल- आरजू ही नहीं जब हुई मुख़्तसर

212 212 212 212

कीजिये मत अभी रोशनी मुख़्तसर ।

आदमी कर न ले जिंदगी मुख़्तसर ।।

इश्क़ में आपको ठोकरें क्या लगीं ।

दफ़अतन हो गयी बेख़ुदी मुख़्तसर ।।

नौजवां भूख से टूटता सा मिला ।

देखिए हो गयी आशिक़ी मुख़्तसर ।।

गलतियां बारहा कर वो कहने लगे ।

क्यूँ हुई मुल्क़ में नौकरी मुख़्तसर ।।

कैसे कह दूं के समझेंगे जज़्बात को ।

जब वो करते नहीं बात ही मुख़्तसर ।।

सिर्फ शिक़वे गिले में सहर हो गयी…

Continue

Posted on May 30, 2019 at 6:30pm

ग़ज़ल - दिल मे भगवान का डर पैदा कर

2122 1122 22

आपने जुमलों में असर पैदा कर ।

कुछ तो जीने का हुनर पैदा कर ।।

दिल जलाने की अगर है ख्वाहिश ।

तू भी आंखों में शरर पैदा कर ।।

गर ज़रूरत है तुझे ख़िदमत की ।

मेरी बस्ती में नफ़र पैदा कर ।।

हर सदफ जिंदगी तो मांगेगी ।

इस तरह तू न गुहर पैदा कर ।।

देखता है वो तेरा जुल्मो सितम।

दिल में भगवान का डर पैदा कर ।।

अब तो सूरज से है तुझे खतरा…

Continue

Posted on May 16, 2019 at 1:35pm — 4 Comments

Comment Wall (3 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:44am on May 8, 2019, TEJ VEER SINGH said…

जन्मदिन की हार्दिक बधाई आदरणीय नवीन मणि त्रिपाठी साहब जी।

At 6:32am on August 5, 2018, Kishorekant said…

लाजवाब रचना केलिये आपको बहुत बहुत बधाइयाँ आदरणीय नविनमणी त्रिपाठी जी  ,

At 2:14am on May 8, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार की ओर से आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें!

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

vijay nikore posted blog posts
9 hours ago
प्रदीप देवीशरण भट्ट posted a blog post

मेंरी लाडली

जब तू पैदा हुई थीतो मैं झूम के नाचा था मेरी गोद में आकरजब तूने पलकें झपकाई मैंने अप्रतिम…See More
10 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted a blog post

हाय क्या हयात में दिखाए रंग प्यार भी (४९)

हाय क्या हयात में दिखाए रंग प्यार भी इस चमन में साथ साथ फूल भी हैं ख़ार भी **हिज्र है विसाल भी है…See More
14 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post मन के आँगन में फूटा जो प्रीतांकुर नवजात |(४८ )
"आदरणीय  Samar kabeer साहेब आपकी सराहना से मन गदगद है ,इसी तरह स्नेह बनाये रखें और…"
15 hours ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post शब्द ....
"जनाब सुशील सरना जी आदाब,अच्छी कविता हुई है,बधाई स्वीकार करें ।"
16 hours ago
Samar kabeer commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post मन के आँगन में फूटा जो प्रीतांकुर नवजात |(४८ )
"जनाब गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत' जी आदाब,बहुत अच्छा गीत रचा आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई…"
16 hours ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post ख़्वाब ... (क्षणिका )
"जनाब सुशील सरना जी आदाब,अच्छी क्षणिका हुई है,बधाई स्वीकार करें ।"
16 hours ago
Samar kabeer commented on डॉ छोटेलाल सिंह's blog post ध्यान योग
"जनाब डॉ. छोटेलाल सिंह जी आदाब,अच्छी रचना हुई है,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें । आपके अस्वस्थ…"
16 hours ago
Samar kabeer commented on डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव's blog post प्रतीक्षा
"जनाब डॉ. गोपाल नारायण श्रीवास्तव जी आदाब,बहुत ही गम्भीर,भावपूर्ण रचना हुई है,इस प्रस्तुति पर बधाई…"
16 hours ago
प्रदीप देवीशरण भट्ट commented on Sushil Sarna's blog post ख़्वाब ... (क्षणिका )
"बेहतरीन क्षणिका"
16 hours ago
प्रदीप देवीशरण भट्ट shared Sushil Sarna's blog post on Facebook
16 hours ago
प्रदीप देवीशरण भट्ट commented on प्रदीप देवीशरण भट्ट's blog post -ट्विंकल ट्विंकल लिट्ल स्टार-
"जनाब समर जी एव्म सुशील जी  बहुत आभार"
16 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service