For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

बसंत कुमार शर्मा
  • Male
  • जबलपुर, मध्यप्रदेश
  • India
Share

बसंत कुमार शर्मा's Friends

  • santosh khirwadkar
  • रोहित डोबरियाल "मल्हार"
  • Prakash Chandra Baranwal
  • Samar kabeer
  • C.M.Upadhyay "Shoonya Akankshi"

बसंत कुमार शर्मा's Groups

 

बसंत कुमार शर्मा's Page

Latest Activity

Shyam Narain Verma commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गीत- प्यार के आगे
"सुंदर गीत के लिए .दिल से बधाई  सादर"
18 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गजल- कब यहाँ पर प्यार की बातें हुईं
"आदरणीया Neelam Upadhyaya जी हृदय से आभार आपका "
18 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गीत- प्यार के आगे
"आदरणीया Neelam Upadhyaya जी , आपका हृदय से आभार "
18 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गीत- प्यार के आगे
"आपकी उपस्थिति को सादर नमन आदरणीय Samar kabeer जी "
18 hours ago
Neelam Upadhyaya commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गीत- प्यार के आगे
"आदरणीय बसंत कुमार जी,  बहुत ही सूंदर रचना हुई है ।   प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें।"
19 hours ago
Neelam Upadhyaya commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गजल- कब यहाँ पर प्यार की बातें हुईं
"आदरणीय बसंत कुमार शर्मा जी,  नमस्कार । अच्छी रचना की प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें।"
19 hours ago
Neelam Upadhyaya commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गजल- कब यहाँ पर प्यार की बातें हुईं
"दो मिनट कचनार की बातें हुईं फिर अधिकतर खार की बातें हुईं"
19 hours ago
Samar kabeer commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गीत- प्यार के आगे
"जनाब बसंत कुमार शर्मा जी आदाब,बहुत सुंदर गीत हुआ है,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
yesterday
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गजल- कब यहाँ पर प्यार की बातें हुईं
"आदरणीय Gurpreet Singh जी आपकी इस्लाह का हृदय से आभार, आपका सुझाव उचित लगा मुझे भी , ठीक करता हूँ "
yesterday
बसंत कुमार शर्मा posted a blog post

गीत- प्यार के आगे

भले थोड़ी रुकावट आज हैपतवार के आगेकिनारा भी मिलेगा कल,हमें मँझधार के आगे. अमन की क्यारियाँ सींचो,मुहब्बत को महकने दो.हृदय में आज अपने तुम,हमारा दिल धड़कने दो. न अपने हाथ फैलाओ,कभी सरकार के आगे. न पकड़ो हाथ में चाक़ू,बनाओ मित्र कुछ अपने.हृदय का पृष्ठ कोरा है,उकेरो कुछ नये सपने. नहीं तलवार लगती कुछ,कलम की धार के आगे न बम होंगे न बन्दूकें,न पत्थर बाजियाँ होंगी.गुलाबों और केसर से,सजी फिर घाटियाँ होंगी. घृणा के पैर टिक पायें,न संभव प्यार के आगे. "मौलिक एवं अप्रकाशित"See More
Monday
Gurpreet Singh commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गजल- कब यहाँ पर प्यार की बातें हुईं
"आदरणीय बसंत कुमार शर्मा जी ,  बहुत ही बढ़िया ग़ज़ल हुई है । बहुत बहुत बधाई आपको ।  दूसरा शेर और ये वाला  शेर बहुत पसंद आए  बाढ़ में जब बह चुका सब, तब कहीं नाव की, पतवार की बातें हुईं वैसे मुझे लगा कि ऊला में अगर '…"
Sunday
बसंत कुमार शर्मा commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post पीढ़ी को समझा दे पंकज, खेती ख़ातिर खेत बचा ले----ग़ज़ल
"लाजबाब गजल वाह "
Saturday
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गजल- कब यहाँ पर प्यार की बातें हुईं
"ह्रदय से आभार आदरणीय समर कबीर जी एवं रवि शुक्ला  जी आपका , सादर नमन "
Saturday
Ravi Shukla commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गजल- कब यहाँ पर प्यार की बातें हुईं
"आदरणीय बसंत जी बहुत बहुत बधाई इस गजल के  लिए "
Friday
Samar kabeer commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गजल- कब यहाँ पर प्यार की बातें हुईं
"अब ठीक है ।"
Friday
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post गजल- कब यहाँ पर प्यार की बातें हुईं
"आदरणीय समर कबीर जी, आपके इस्लाह को सादर नमन, अभी देखें शायद  दोष दूर हुआ "
Friday

Profile Information

Gender
Male
City State
जबलपुर (मध्यप्रदेश)
Native Place
धौलपुर
Profession
भारतीय रेल यातायात सेवा
About me
बोन्साई एवं कविता लेखन में रूचि

बसंत कुमार शर्मा's Blog

गीत- प्यार के आगे

भले थोड़ी रुकावट आज है

पतवार के आगे

किनारा भी मिलेगा कल,

हमें मँझधार के आगे.

 

अमन की क्यारियाँ सींचो,

मुहब्बत को महकने दो.

हृदय में आज अपने तुम,…

Continue

Posted on August 12, 2018 at 12:08pm — 5 Comments

गजल- कब यहाँ पर प्यार की बातें हुईं

कब यहाँ पर प्यार की बातें हुईं

जब हुईं तकरार की बातें हुईं

 

दो मिनट कचनार की बातें हुईं

फिर अधिकतर खार की बातें हुईं

 

बाढ़ में जब बह चुका सब, तब कहीं

नाव की, पतवार की बातें हुईं

 …

Continue

Posted on August 10, 2018 at 9:30am — 9 Comments

नवगीत- यही सोचता रहा घड़ा

स्वर्ण-कलश हो गए लबालब,

क्यों हूँ अब तक रिक्त पड़ा.

जाने कब नंबर आयेगा,

यही सोचता रहा घड़ा.

 

नदिया सूखी, पोखर प्यासी,

तालाबों की वही कहानी.

झरने खूब बहे पर्वत से,…

Continue

Posted on August 3, 2018 at 4:33pm — 2 Comments

नवगीत- यही सोचता रहा घड़ा

स्वर्ण-कलश हो गए लबालब,

क्यों हूँ अब तक रिक्त पड़ा.

जाने कब नंबर आयेगा,

यही सोचता रहा घड़ा.

 

नदिया सूखी, पोखर प्यासी,

तालाबों की वही कहानी.

झरने खूब बहे पर्वत से,…

Continue

Posted on August 3, 2018 at 4:33pm — 2 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 2:23pm on September 28, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

आपका अभिनन्दन है.

ग़ज़ल सीखने एवं जानकारी के लिए

 ग़ज़ल की कक्षा 

 ग़ज़ल की बातें 

 

भारतीय छंद विधान से सम्बंधित जानकारी  यहाँ उपलब्ध है

|

|

|

|

|

|

|

|

आप अपनी मौलिक व अप्रकाशित रचनाएँ यहाँ पोस्ट (क्लिक करें) कर सकते है.

और अधिक जानकारी के लिए कृपया नियम अवश्य देखें.

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतुयहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

 

ओबीओ पर प्रतिमाह आयोजित होने वाले लाइव महोत्सवछंदोत्सवतरही मुशायरा वलघुकथा गोष्ठी में आप सहभागिता निभाएंगे तो हमें ख़ुशी होगी. इस सन्देश को पढने के लिए आपका धन्यवाद.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"स्वाधीनता दिवस की 72वीं सालगिरह की पावन बेला पर आप सभी ओबीओ परिवारजन को तहे दिल से बहुत-बहुत…"
21 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on Sushil Sarna's blog post गोधूलि की बेला में (लघु रचना ) ....
"हार्दिक बधाई आदरणीय सुशील सरना जी।बेहतरीन रचना।"
24 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(उजाले..लुभाने लगे हैं)
"हार्दिक बधाई आदरणीय मनन कुमार जी।बेहतरीन गज़ल। कदम से कदम हम मिलाके चले थे पहुँचने में क्यूँ फिर…"
26 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"हार्दिक बधाई आदरणीय नवीन मणि जी।बेहतरीन समसामयिक गज़ल। मौजूदा हालात पर बढ़िया कटाक्ष। है पापी पेट से…"
30 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post चक्रव्यूह - लघुकथा –
"हार्दिक आभार आदरणीय नीलम जी।"
36 minutes ago
Dr. Vijai Shanker commented on Sushil Sarna's blog post गोधूलि की बेला में (लघु रचना ) ....
"आदरणीय सुशील सरना जी , बधाई , इस सुन्दर , सांकेतिक रचना के लिए , सादर।"
1 hour ago
Dr. Vijai Shanker commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post 'तोप, बारूद और तोपची' (लघुकथा)
"आदरणीय शेख शहज़ाद उस्मानी जी , अच्छी लघु-कथा है. शीर्षक भी बहुत सही और सटीक है। हर कोई अपने हालात…"
1 hour ago
Dr. Vijai Shanker commented on Dr. Vijai Shanker's blog post मार्केटिंग - डॉo विजय शंकर
"आदरणीय शेख शहज़ाद उस्मानी जी , आभार, आपने बड़े मनोयोग से रचना का पाठ किया और ुटण३ ही मनोयोग से उसकी…"
1 hour ago
Manan Kumar singh posted a blog post

गजल(उजाले..लुभाने लगे हैं)

122 122 122 122उजाले हमें फिर लुभाने लगे हैंनया गीत हम आज गाने लगे हैं।1बढ़े जो अँधेरे, सताने लगे…See More
2 hours ago
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल

1222 1222 1222 1222 बड़ी उम्मीद थी उनसे वतन को शाद रक्खेंगे ।खबर क्या थी चमन में वो सितम आबाद…See More
2 hours ago
नादिर ख़ान posted a blog post

झूम के देखो सावन आया ....

खुशियों की सौगातें लायाझूम के देखो सावन आया चंचल सोख़ हवा इतराईबारिश की बौछारें लाईमहक उठा अब मन का…See More
2 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"स्वाधीनता दिवस की 72वीं सालगिरह की पावन बेला पर आप सभी ओबीओ परिवारजन को तहे दिल से बहुत-बहुत…"
6 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service