For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

इमरान खान's Blog (37)

दबे कुचले हुए लोगो! तुम्हें अब तक भरोसा है? -- इमरान खान

हुकूमत तुम ग़रीबों के सरों पर हाथ रक्खेगी,

दबे कुचले हुए लोगो! तुम्हें अब तक भरोसा है?

सियासत अपने मंसूबों में तुमको साथ रक्खेगी,

मसाइल से घिरे लोगो! तुम्हें अब तक भरोसा है?

तुम्हारी आंख से निकले हुए आंसू को वो देखें?

तुम्हारी सिसकियाँ देखें या फॉरेन टूर को देखें?

तुम्हारी फस्ल ना आने के मातम को मनायेगें,

या जाकर वेस्ट कंट्री से वो एफडीआई लायेंगे?

मिटाना चाहते हैं वो दुकानों को बाज़ारों से,

कोई…

Continue

Added by इमरान खान on December 3, 2015 at 3:00pm — 13 Comments

पास क्या दूर भी नहीं कोई (इमरान खान)

आज किस तरह ज़िन्दगी खोई,

पास क्या दूर भी नहीं कोई.

एक तस्वीर दिल पे है चस्पा,

रूह जिसको लिपट-लिपट रोई.

रात भर बेकली रही मुझ पर,

और दुनिया सुकून से सोई.

फूल आंगन में अब न तुम ढूंढो,

फस्ल काँटों भरी अगर बोई.

वक़्त अपना कुछ इस तरह बीता,

हमनशीं हो गई गज़लगोई.

(मौलिक एवं अप्रकाशित)

Added by इमरान खान on August 6, 2015 at 4:30pm — 7 Comments

डूबा था पर बाहर आया....

‌‌‌अपनी जान बचा तो पाया,

डूबा था पर बाहर आया।

जब इल्ज़ामों की बारिश थी,

पास नहीं था मेरे साया।

मुझको गैर बताकर उसने,

हाय गजब ये कैसा ढाया।

तन्हाई में खाली दिल ने,

साज़ उठाया नग़मा गाया।

जबसे सच्चाई जानी है,

हर रिश्ते से दिल घबराया।

प्यार भरा दिल तोड़ा जिसने,

मानो उसने मंदिर ढाया।

कुछ मिसरे ये टूटे फूटे,

हैं मेरा सारा सरमाया।

हम…

Continue

Added by इमरान खान on July 26, 2015 at 3:18pm — 8 Comments

जिंदगी सर को झुका कर रह गई...

हर क़दम पर मात खाकर रह गई,

जिंदगी सर को झुका कर रह गई.

देख लो पहचान मेरी हो जुदा,

एक खुदसर में समाकर रह गई.

होगी मलिका सल्तनत की वो मगर,

मेरी खातिर कसमसा कर रह गई.

रूह मुझसे जाँ छुड़ाने के लिए,

हर दफा बस छटपटा कर रह गई.

सोजे दिल पानी से भी ना बुझ सके,

आंख भी आंसू बहा कर रह गई.

(मौलिक एवं अप्रकाशित)

Added by इमरान खान on December 4, 2014 at 3:58pm — 16 Comments

वो शख़्स मुनाफिक़ लगता है...

दुश्मन से मिलकर रहता है,

बस मीठी बातें करता है,

वो शख़्स मुनाफिक़* लगता है।



माने तो दिलजोई करना,

रूठे तो मनमानी करना,

है लाज़िम झगड़ा भी करना।



मन में जो आये कह देना,

दिल में पर मैल नहीं रखना,

ये ही मोमिन# का है गहना।



छल, पाप, कपट, मक्कारी है,

माना हर सू बदकारी है,

पर नेकी सब से भारी…

Continue

Added by इमरान खान on August 4, 2014 at 2:04pm — 4 Comments

गज़ल - वतन को लहू की नज़र कर दिया है - इमरान

122 122 122 122



सियासी जमातो! ग़दर कर दिया है,

वतन को लहू की नज़र कर दिया है।



निशाँ भी नहीं है कहीं रोशनी का,

के हर सू अँधेरा अमर कर दिया है।



डरी और सहमी है औलादे आदम,

ज़हन पर कुछ ऐसा असर कर दिया है।



नई नस्ले नफरत को पाने की धुन में,

रगों में रवाना ज़हर कर दिया है।



यहाँ कल तलक थी हज़ारों की बस्ती,

बताओ के उसको किधर कर दिया है।



ये वादा था सिस्टम बदल देंगे सारा,

मगर और देखो लचर कर दिया है।



गबन…

Continue

Added by इमरान खान on April 15, 2014 at 1:30pm — 11 Comments

गज़ल - जलते नयन बेतहाशा - इमरान

221 221 22



ठंडी पवन बेतहाशा,

जलते नयन बेतहाशा।



धरती पराई, सताये,

यादे वतन बेतहाशा।



ज़िन्दा अगर हो तो सुन्न क्यों,

ख़ूने बदन बेतहाशा।



मैला बदन कैसे पहनूँ,

उजला क़फन बेतहाशा।



मौसम चुनावी, मिलेंगे,

झूठे वचन बेतहाशा।



नेता न छोड़ेंगे करने,

भारी गबन बेतहाशा।



माज़ी जिगर का बना है,

कोई वज़न बेतहाशा।



मिलने लगे हैं कुछ अपने,

डाले शिकन बेतहाशा।



देखो न अंधा बना… Continue

Added by इमरान खान on April 6, 2014 at 8:30pm — 31 Comments

ग़ज़ल - हमें ही वोट दो कहकर वो पास आने लगे - इमरान

जो पाँच साल दहाड़े थे गिड़गिड़ाने लगे,

हमें ही वोट दो कहकर करीब आने लगे।



तुम्हारी ज़ात के नेता हैं हम तुम्हारे हैं,

ग़रीबों को ये बताकर गले लगाने लगे।



तुम्हारा हाल बदल देंगे एक मौका दो,

गली गली उसी ढपली को फिर बजाने लगे।



जो भीड़ आई है रैली में, है किराये की,

वो जिसके ज़ोर पे क़द को बड़ा दिखाने लगे।



बहा के ख़ून के दरिया सभी सियासतदां,

हर एक ख़ून के क़तरे से फ़ैज़ उठाने लगे।



ये देस लूट रहे हैं हमारे नेता जी,

जिसे आज़ाद कराने…

Continue

Added by इमरान खान on March 11, 2014 at 1:30pm — 20 Comments

ग़ज़ल - आज दिल उनका होने वाला है - इमरान ख़ान

********************************

आज दिल उनका होने वाला है

********************************



बहरे खफीफ मुसद्दस मखबून

फ़ायलातुन मुफाएलुन फालुन

2122 1212 22



होश लगता है खोने वाला है,

आज दिल उनका होने वाला है.



हर ख़ुशी जागने लगी दिल की,

ग़म थका है तो सोने वाला है.



कल जो जारो कतार था मंज़र,

हँस रहा देखो रोने वाला है.



रूह ये धूल से भरी मेरी,

आज आकर वो धोने वाला है.



दिल की बंज़र पड़ी ज़मीनों पर,…

Continue

Added by इमरान खान on February 24, 2014 at 9:00pm — 5 Comments

मेरा भी दिल था जो तूने मसल दिया लेकर

मैं तेरी याद को सीने में चल दिया लेकर,

मेरा भी दिल था जो तूने मसल दिया लेकर।

किसी के वास्ते खुद को तबाह कर लेना,

खुदा किसी को न अब तू ये हौसला देना।

सज़ा मैं कौन से जुर्मों की जाने सहता हूँ,

किसी हुजूम में रहकर भी आज तन्हा हूँ।

क्यों मेरे दिल का ठिकाना बदल दिया लेकर,

मेरा भी दिल था जो तूने मसल दिया लेकर।

न जाने आग में कब तक जला करूँगा मैं,

यूँ किस तरह से भला और जी सकूँगा मैं।

मिटाऊंगा…

Continue

Added by इमरान खान on February 10, 2014 at 6:43pm — 4 Comments

मेरे दिल को न चैन आयेगा

मेरे दिल को न चैन आयेगा,

उम्र सारी मलाल आयेगा।



नूर मुझसे ख़फ़ा है तो फिर,

बस अँधेरा करीब आयेगा।



आसमाँ पर है सूरज अगर,

चाँद कैसे भला आयेगा।



बददुआयें वो देने लगे,

अब मुकद्दर क़हर ढायेगा।



हमनशीं बन गया एक फिर,

देखें कब तक निभा पायेगा।



मुझसे लेता रहा उल्फतें,

तोहमतें वो जो दे जायेगा।



अलविदा ज़िन्दगी को कहें,

जाके तब कुछ क़रार आयेगा।



वो जो सीने से लगते थे अब,

पीठ पर उनका वार… Continue

Added by इमरान खान on August 16, 2013 at 11:55am — 19 Comments

हमारी फिर से मुलाकात हो नहीं सकती...

तमाम उम्र भी ये बात हो नहीं सकती,

हमारी फिर से मुलाकात हो नहीं सकती।



हर एक ख्वाब की ताबीर मिल सके हमको,

कोई भी ऐसी करामात हो नहीं सकती।



गुरूब हो चुका मेरे नसीब का सूरज,

अब और नूर की बरसात हो नहीं सकती।



मैं रात हूँ मुझे सूरज मिले भला कैसे,

हो शम्स पास तो फिर रात हो नहीं सकती।



बजाय हमको मनाने के कह गये है वो,

के छोडो हमसे इल्तजात हो नहीं सकती।



कोई गुनाह बहुत ही कबीर है मेरा,

कबूल जिसकी मुनाजात हो नहीं…

Continue

Added by इमरान खान on December 2, 2012 at 10:30pm — 19 Comments

दर्दे तन्हाई

२१२ २१२

मैं जहाँ भी रहूँ,

तू भी आती है क्यूँ।



मैं अकेला कहाँ,

तेरी यादों में हूँ।



ठोकरें भी लगें,

तो भी चलता रहूँ।



मेरी बर्बादियाँ,

चल रही दू ब दूँ।



कत्ले अरमाँ या जाँ,

बोल दे क्या करूँ।



जिस्म ठंडा हुआ,

रूह जलती है क्यूँ।



है तेरी याद में,

दीद में खूँ ही खूँ।



ज़ख़्मी सारा जिगर,

दर्द कैसे सहूँ।



आशियाना नहीं,

बेठिकाना फिरूँ।



यार भी छल…

Continue

Added by इमरान खान on November 20, 2012 at 11:30pm — 9 Comments

अहवाल-ए-ज़वाल

२१२ २१२ २१२ २१२ २१२ २१२ २१२ २१२

पुर-शुआ पुर-शुआ था हमारा शहर, रोशनी में नहाया हुआ था समाँ,

आज लेकिन न जाने ये क्या हो गया, हो गया है अँधेरा अँधेरा जवाँ।



हैं तवारीख में दास्तानें सभी, वक्त की मार से खाक में मिल गये,

जो जवाहर सजाते रहे ताज में, और ताबे रहा जिनके सारा जहाँ।



उल्फतों से यही हाय कहता रहा, मैं तुम्हारा बना हूँ सदा के लिये,

पर अचानक उसी ने गज़ब ये किया, चल दिया ठोकरें दे न जाने कहाँ।



बन्द कर के निगाहें भरोसा किया, जानो…

Continue

Added by इमरान खान on November 17, 2012 at 2:00pm — 3 Comments

धड़कनें जलती बुझती रही रात भर...

दिल की लौ थरथराती रही रात भर,

धड़कनें जलती बुझती रही रात भर।



गिर के खुद ही सम्भलती रही रात भर,

ज़िन्दगी लड़खड़ाती रही रात भर।



मैंने रब से भी कितनी ही फरियाद की,

एक तसल्ली ही मिलती रही रात भर।



बुझ न जब तक गई इन चराग़ों की लौ,

तेज़ आँधी ही चलती रही रात भर।



शाम घिरने से लेके सहर खिलने तक,

दर हवायें बजाती रही रात भर।



उसका वादा था वो पर नहीं आ सका,

ये खलिश दिल जलाती रही रात भर।



जब हवा रात भर ठंडी ठंडी… Continue

Added by इमरान खान on November 15, 2012 at 11:26am — 8 Comments

फितरत ए इन्सान ए अजब

आज मुझ पे हसीं इल्ज़ाम लगाया उसने,

मेरे सोते हुए बातिन को जगाया उसने।

मुझसे बोला के ये क्या रोग लगा बैठा है,

धूप निकली है अन्धेरे में छुपा बैठा है?

तुझको दुनिया की जो तकलीफ का हो अन्दाज़ा,

अपनी मायूसियों के खोल से बाहर आ जा।…

Continue

Added by इमरान खान on August 6, 2012 at 3:33pm — 7 Comments

वही तो सृजनकार है....

जिसका अंक है कोई, न रूप कार है,

जो प्रकाश पुंज है, जो निर्विकार है,

कणों कणों से एक सुर में ये पुकार है,

वही तो सृनकार है, वही तो सृनकार है।



ये नगर ये…

Continue

Added by इमरान खान on May 8, 2012 at 1:00pm — 8 Comments

चल दिल चलें अपने जहाँ.......

दर्द भरा है ये समां, होने लगा धुआं धुआं.

ये तेरी मंजिलें कहाँ, चल दिल चलें अपने जहाँ.



दो पल मुझे हंसा गया, सदियों मगर रुला गया.

सीने में आग जल गयी, इतना मुझे सता गया,

रोने लगा रुवां रुवां, चल दिल चलें अपने…

Continue

Added by इमरान खान on May 6, 2012 at 11:41am — 7 Comments

जिससे इंसां का भी दर्जा नहीं पाया हमने......

जिनसे इंसां का भी दर्जा नहीं पाया हमने,

मुद्दतों ऐसे ही इंसानों को पूजा हमने.

.

प्यार की पौध के मिटने से तो मर जायेंगे,

खून के अश्क से बागान को सींचा हमने.

.

हाँ उजाला नहीं होना मेरी इन राहों में,

शम्स ए पुरनूर से पाया ये अँधेरा हमने.

.

हमने मुंसिफ के भी हाथों में जो खंजर देखे,

कांपता दिल था मुक़दमा नहीं डाला हमने.

.

वहशी लोगों में किसी कांच से नाज़ुक हम थे,

हुज्जतों से बड़ी दामन ये बचाया…

Continue

Added by इमरान खान on April 21, 2012 at 1:30pm — 8 Comments

चेहरा तो चाँद सा है मगर दिल ख़राब है......

ज़ाहिर है पाक साफ़ तख़य्युल ख़राब है,

चेहरा तो चाँद सा है मगर दिल ख़राब है।

कहते हैं मुझसे चीख़ के रंजो मलाले दिल,

राहें तेरी हसीन थी मन्ज़िल ख़राब है।

अपनी अना के ख़ोल में जो खुद छुपा रहा,

उसने भी अलम दे दिया महफिल खराब है।

करते हैं शेख़ जी भी यहाँ ऐबदारियाँ,

इस दौर में तन्हाँ नहीं बातिल ख़राब है।

इक राह आख़िरी थी बची वो भी खो गई,

लगता है ये नसीब मुकम्मिल ख़राब है।

इक दौर में बुलन्दी मेरी…

Continue

Added by इमरान खान on February 12, 2012 at 1:10pm — 7 Comments

Monthly Archives

2015

2014

2013

2012

2011

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post मगर हम स्वेद के गायें - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आद0 लक्ष्मण धामी मुसाफिर जी सादर अभिवादन। सच बयानी करती हुई अच्छी ग़ज़ल कही है आपने। बधाई स्वीकार…"
1 second ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Sushil Sarna's blog post ख़्वाबों के रेशमी धागों से .......
"आद सुशील सरना जी सादर अभिवादन। बढ़िया रचना सृजित किया है आपने बधाई स्वीकार कीजिये"
1 minute ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post अहसास की ग़ज़ल: मनोज अहसास
"मिल ले तू इक बार अगर मिल सकता हो// मेरे समझ से यह ऐसे होना चाहिए "मिल ले तू इक बार अगर मिल…"
2 minutes ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Usha Awasthi's blog post क्यों ना जड़ पर चोट ?
"आद उषा अवस्थी जी सादर अभिवादन। बढ़िया रचना हुई है। बधाई स्वीकार कीजिये।"
6 minutes ago
सालिक गणवीर posted a blog post

ग़ज़ल ( उकता गया हूँ इनसे मेरे यार कम करो....)

(221 2121 1221 212)उकता गया हूँ इनसे मेरे यार कम करो अब कामयाबियों का इश्तहार कम करोआगे बहुत है…See More
25 minutes ago
Neeta Tayal posted a blog post

रोटी

जीवित रहने के लिए जीव,रहता है जिस पर निर्भर।आटे से बनती है जो औरगोल गोल जिसकी सूरत।।सही पहचाने नाम…See More
28 minutes ago
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल

2122 2122 2122 अपनी  रानाई  पे  तू  मग़रूर  है  क्या । बेवफ़ाई  के  लिए  मज़बूर  है  क्या ।।कम…See More
29 minutes ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आभार आदरणीय लक्ष्मण भाई जी।"
1 hour ago
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"रोटियाँबहर :- 122*3+ 12 (शक्ति छंद आधारित) लगे ऐंठने आँत जब भूख से,क्षुधा शांत तब ये करें…"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आ. भाई मनन जी, विषयानुरूप उत्तम गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
2 hours ago
सालिक गणवीर commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post तेरे ख्वाहिशों के शह्र में- लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'(गजल)
"भाई लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर ' जी सादर अभिवादन एक और उम्दा ग़ज़ल के लिए हार्दिक शुभकामनाएँँ."
2 hours ago
सालिक गणवीर commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post छत पे आने की कहो- ग़ज़ल
"भाई बसंत कुमार शर्मा जी बेहद खूबसूरत ग़ज़ल के लिए हार्दिक बधाइयाँँ स्वीकार करें."
2 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service