For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

आध्यात्मिक चिंतन

Information

आध्यात्मिक चिंतन

इस समूह मे सदस्य गण आध्यात्मिक विषयों पर चिंतन एवं स्वस्थ चर्चायें कर सकतें हैं ।

Location: world
Members: 72
Latest Activity: Jun 14

Discussion Forum

गति और प्रगति

197 गति और प्रगतिकहा जाता है कि यह व्यक्त जगत देश, काल और पात्र (अर्थात् टाइम, स्पेस और पर्सन) के अनुसार गतिशील है। अव्यक्त स्थिति में देश, काल और पात्र न होने से गतिशीलता भी नहीं है । प्रत्येक…Continue

Started by Dr T R Sukul Jun 7.

PAIN .. PRAYER.. AND GRATITUDE … a perspective 1 Reply

                              PAIN .. PRAYER.. AND  GRATITUDE … a perspective So true. .... sometimes  people come close to you, nay, very close to you, not necessarily because their affection for…Continue

Started by vijay nikore. Last reply by Dr T R Sukul Jun 7.

DEVOTION ... HERE AND NOW 1 Reply

                                   An event in life can be life changing. It can steer us towards devotion for God.On the other hand, devotion to God, if already present, can help us steer through…Continue

Started by vijay nikore. Last reply by KALPANA BHATT ('रौनक़') Sep 2, 2016.

PROVIDENTIAL UNDERSTANDING 2 Replies

PROVIDENTIAL  UNDERSTANDINGThoughts ..Pure and shimmeringTheir eloquence rising and upliftingSubtly pervading even subtletyLike air, like light, or like ...LoveThoughts .. repugnant or…Continue

Started by vijay nikore. Last reply by vijay nikore Sep 2, 2016.

Comment Wall

Comment

You need to be a member of आध्यात्मिक चिंतन to add comments!

Comment by ajay yadav on February 19, 2013 at 11:42pm

अपने आपको वह चीज करते या होते या पाते सोंचे या कल्पना करें जिसके लिए आप मेहनत कर रहें हैं |सभी विवरण भरें |महसूस करें ,देंखे ,चंखे ,स्पर्श करें ,सुने !अपनी नई स्थिति पर दूसरे लोगों की प्रतिक्रियाओ पर ध्यान दें |चाहें उनकी प्रतिक्रियाएं जों
भी हों ,कहें की आपके लिए सब ठीक हैं |
***************************************
जब आप रात को सोने जातें हैं तो अपनी आँखे बंद किजीयें और फिर से अपने जीवन की सभी अच्छी बातों के लिए आभार जताएं |इससे और भी अच्छी बातें होंगी |
***************************************
शान्ति से सोने जाएँ |भरोसा रखें की जीवन की प्रक्रिया आपके पक्ष में हैं और वह आपकी बेहतरी तथा खुशियों का ध्यान रख रही हैं|
*********************************************
आपके हृदय में इतना प्रेम हैं की आप पूरी पृथ्वी का उपचार कर सकते है|लेकिन फ़िलहाल चलो इस प्रेम को केवल अपने उपचार के लिए इस्तेमाल के लिए इस्तेमाल करें |अपने हृदय के केन्द्र में एक गर्माहट ,एक सौम्यता ,एक नरमी आतें देखे |इस भावना को अपने सोचने और बोलने के तरीको को बदलनें दें |

Comment by ajay yadav on February 19, 2013 at 11:39pm

आप गहरे विश्वास के साथ जों भी अपेक्षा करते हैं ,वह स्वयं पूरी होने वाली भविष्यवाणी बन जाती हैं[self fulfilling prophecy]|आपको जिंदगी में वही मिलता हैं जिसकी आप अपेक्षा करते हैं |
आपकी जों खुद से अपेक्षाएं होती हैं ,आप उनसे ऊँचे कभी नही उठ
सकतें |चूँकि वे पूरी तरह से आपके नियंत्रण में होंती हैं इसलिए यह सुनिश्चित करना हैं की आपकी अपेक्षाएं उस जीवन के अनुरूप हों,जिसे आप भविष्य में सच होने की आशा रखतें हैं |खुद से हमेशा सर्वश्रेष्ठ की अपेक्षा रखें |
सिर्फ सकारात्मक अपेक्षाओ की शक्ति ही आपके पूरे व्यक्तित्व को बदल सकती हैं …..साथ ही आपकी जिंदगी को |

Comment by vijay nikore on February 17, 2013 at 1:53pm

प्रिय मित्रो,

 

इस समूह पर नए सदस्यों का हार्दिक  स्वागत है,

और अन्य सदस्यों को भी मेरा सादर अभिनन्दन!

 

इस समूह को आरम्भ हुए अभी केवल ११ दिन हुए  हैं,

और अब हम १९ सदस्य हैं। स्पष्ट है कि इस चिंतन-क्षेत्र

में obo पर पर्याप्त रूचि है।

 

यह समूह बनाने के लिए obo admin को धन्यवाद।

आशा है कि अब आगे बढ़ने के लिए  हम सभी यहाँ

अपने योगदान से एक-दूसरे के चिंतन को समृद्ध करेंगे।

 

इस पर ४ लेख post हो चुके हैं.. उन पर भी शीघ्र अपने

अमूल्य दार्शनिक विचार दें, और नए लेख लिख कर

अपने विचारों का रसास्वादन कराएँ।

 

सादर और सस्नेह,

विजय निकोर

Comment by sanjiv verma 'salil' on February 15, 2013 at 6:15pm

जब ज्ञान दें / गुरु तभी  नर/ निज स्वार्थ से/ मुँह मोड़ता।

      तब आत्म को / परमात्म से / आध्यात्म भी / है जोड़ता।।

( छंद विधान: हरिगीतिका X 4 = 11212 की चार बार आवृत्ति)

Comment by vijay nikore on February 14, 2013 at 11:24am

Welcome to new members of this Group ... Deepti Sharma ji and Dinesh Pareek Ji.

Looking forward to your active participation.

Vijay Nikore

Comment by vijay nikore on February 8, 2013 at 12:03pm
प्रिय सदस्यगण:
हिन्दी भाषा मुझको बहुत प्यारी है। इसीलिए मेरी कविताएँ ९०% हिन्दी में ही हैं।
 
मैं और मेरी जीवन साथी, नीरा जी, आपस में हिन्दी में ही वार्तालाप करते हैं। परन्तु, आध्यात्मिक क्षेत्र में मेरी शिक्षा अंग्रेज़ी में हुई है क्यूँ कि रामाकृष्ण मिश्न और चिन्मया मिश्न के सभी स्वामी जिनसे हमें आध्यात्मिक शिक्षा मिली, वह अन्ग्रेज़ी में ही मिली। इतना ही नहीं, इस विषय पर अच्छी पुस्तकें बहुधा अन्ग्रेज़ी में ही उपलब्ध हैं। मेरे निजी पुस्तकालय में आध्यात्मिक्ता पर लगबघ १०० से अधिक पुस्तकें हैं, और इनमें केवल एक ही हिन्दी में है, और उसमें व्याख्या  इतनी अच्छी नहीं दी गई। अन्ग्रेज़ी में यह शिक्षा होने का नुक्सान यह रहा कि इस विषय पर हमें हमारे विचार अन्ग्रेज़ी में ही आते हैं।
अत: मैं आपसे वायदा करता हूँ कि कुछ समय के बाद मैं लेख हिन्दी में भी भेजूँगा।
 
सादर और सस्नेह,
 
आपके संग सहविद्यार्थी,
विजय निकोर
 
Comment by vijay nikore on February 7, 2013 at 4:17am

My  "dear"  friends:

I just saw that we now have 10 members. The last I saw was a number "6".

Every member is going to add more enrichment and fun for us all. Thank you and congratulations. You may wish to offer this " enrichment" to your friends of  "like mind", by extending to them an invitation to join this आध्यातमिक चिंतन group.

With regards and care,

Vijay Nikore

Comment by Anwesha Anjushree on February 4, 2013 at 10:27pm

Shukriya mujhe aamantrit karne ka...thodi samay ki asuvida hai...parantu aane ki koshish karungi...main jyada samay nahi de paati...chhama prarthi....naman


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by rajesh kumari on February 4, 2013 at 4:41pm

अध्यात्म पर पहली पोस्ट पढ़ी अच्छी लगी धीरे धीरे समझने कि कोशिश करूँगी हार्दिक आभार आदरणीय 


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on February 4, 2013 at 3:50pm

आध्यात्मिक चिंतन समूह.. .

आध्यात्म क्या है, जानना अच्छा लगा.. .

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Tasdiq Ahmed Khan commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (तोड़ते भी नहीं यारी को निभाते भी नहीं)
"मुह तरमा नीलम साहिबा   , ग़ज़ल पसंद करने और आपकी हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया…"
19 minutes ago
Samar kabeer commented on Naveen Mani Tripathi's blog post तेरे आने से आये दिन सुहाने ।
"जनाब नवीन मणि त्रिपाठी जी आदाब,ग़ज़ल का अच्छा प्रयास हुआ है,बधाई स्वीकार करें । ' हमारे…"
44 minutes ago
Samar kabeer commented on Rakshita Singh's blog post विरह गीत
"मुहतरमा रक्षिता सिंह जी आदाब,अच्छी रचना हुई है,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें । पटल पर बहुत समय…"
1 hour ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post प्रिय भाई डा० रामदरश मिश्र जी
"आपका हार्दिक आभार, आदरणीया नीलम जी"
2 hours ago
Neelam Upadhyaya commented on Sushil Sarna's blog post स्वतंत्रता दिवस पर ३ रचनाएं :
"आदरणीय सुशिल सरना जी, नमस्कार।  वर्तमान में समाज में व्याप्त विसंगतियों कटाक्ष करती बहुत…"
2 hours ago
Neelam Upadhyaya commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (तोड़ते भी नहीं यारी को निभाते भी नहीं)
"आदरणीय तस्दीक़ अहमद जी, नमस्कार।  बहुत ही बेहहतरीन ग़ज़ल की पेशकश ।  मुबारकबाद क़ुबूल करें ।"
2 hours ago
Neelam Upadhyaya commented on Saurabh Pandey's blog post नवगीत : जग-जगती में // -- सौरभ
"आदरणीय सौरभ पाण्डे जी, नमस्कार ।   बहुत ही सूंदर गीत की रचना।  प्रस्तुति पर …"
2 hours ago
Neelam Upadhyaya commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कुछ दोहे -लक्ष्मण धामी"मुसाफिर"
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी, नमस्कार ।   अच्छे दोहे हुए हैं।  प्रस्तुति पर  हार्दिक…"
2 hours ago
Neelam Upadhyaya commented on vijay nikore's blog post प्रिय भाई डा० रामदरश मिश्र जी
"आदरणीय विजय निकोर जी, नमस्कार।  रामदरश मिश्र जी को हमारी तरफ़ से भी जन्म दिन की हार्दिक बधाई…"
2 hours ago
Neelam Upadhyaya commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post 'ताटंक छंद अभ्यास'
" आदरणीय शेख शहज़ाद उस्मानी जी, नमस्कार।  ताटंक छंद के प्रयास की जितनी प्रशंसा की जाय कम है…"
2 hours ago
विनय कुमार commented on विनय कुमार's blog post नींव की ईंट--लघुकथा
"बहुत बहुत आभार आ मुहतरम जनाब समर कबीर साहब"
2 hours ago
Neelam Upadhyaya commented on Rakshita Singh's blog post विरह गीत
"बहुत ही अच्छी  रचना ।  प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकार करें रक्षिता जी। "
2 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service